MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 1 रसायन विज्ञान की कुछ मूल अवधारणाएँ

MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 1 रसायन विज्ञान की कुछ मूल अवधारणाए रसायन विज्ञान की कुछ मूल अवधारणाए NCERT अभ्यास प्रश्न रसायन विज्ञान कक्षा 11 Mp Board प्रश्न 1. निम्नलिखित के लिए मोलर द्रव्यमान का परिकलन कीजिए – H2O CO2 CH4 उत्तर: H2O का अणुभार = 2 (1.008 amu) + 16.00 amu = 18.016 amu. CO2 का अणुभार = 12.01 amu + 2 x 16.00 amu = 44.01 amu. CH4 का अणुभार = 12.01 amu + 4(1.008 amu) = 16.042 amu. Mulanupati Sutra In Chemistry In Hindi प्रश्न 2. सोडियम सल्फेट (Na2SO4) में उपस्थित विभिन्न तत्वों के द्रव्यमान प्रतिशत की गणना कीजिए। हल: Mp Board Class 11th Chemistry Solution प्रश्न 3. आयरन के एक ऑक्साइड का मूलानुपाती सूत्र ज्ञात कीजिए जिसमें 69.9% आयरन तथा 30.1% डाइऑक्सीजन भारानुसार हो। हल: ∴ मूलानुपाती सूत्र = Fe2O3. Mp Board Solution Class 11 Chemistry प्रश्न 4. बनने वाले कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा की गणना कीजिए जब – हवा में 1 मोल कार्बन जलती है। 16g डाइऑक्सीजन में 1 मोल कार्बन जलती है। 16g डाइऑक्सीजन में 2 मोल कार्बन जलती है। उत्तर: कार्बन का 1 मोल CO2 के 44 ग्राम देता है। डाइऑक्सीजन के केवल 16g उपलब्ध है ये कार्बन के केवल 0.5…

MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 2 परमाणु की संरचना

MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 2 परमाणु की संरचना परमाणु की संरचना NCERT अभ्यास प्रश्न परमाणु की संरचना के प्रश्न अभ्यास MP Board Class 11th Chemistry प्रश्न 1. एक ग्राम में इलेक्ट्रॉनों की संख्या की गणना कीजिए। एक मोल इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान एवं आवेश की गणना कीजिए। हल: 1. एक इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान = 9.11 x 10-31 kg, इलेक्ट्रॉन का कुल द्रव्यमान = 1g = 1 x 10-3kg ∴ 9.11 x 10-31 kg द्रव्यमान एक इलेक्ट्रॉन का है। ∴ 1 x 10-3 kg द्रव्यमान एक इलेक्ट्रॉन का है = = 1.09×1027 इलेक्ट्रॉन। 2. इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान = 9.1×10-28 ग्राम 1 मोल इलेक्ट्रॉन = 6.023 x 103 इलेक्ट्रॉन 1 मोल इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान = 9.1 x 10-28 x 6.023 x 1023 = 5.47 x 10-4 ग्राम। इलेक्ट्रॉन का आवेश = 1.6 x 10-19 कूलॉम 1 मोल इलेक्ट्रॉन = 6.023 x 1023 1 मोल इलेक्ट्रॉन का आवेश = 1.6 x 10-19 x 6.023 x 1023 = 9.63 x 104 कूलॉम। परमाणु की संरचना अभ्यास MP Board Class 11th Chemistry प्रश्न 2. एक मोल मेथेन में उपस्थित कुल इलेक्ट्रॉनों की गणना कीजिए। 7mg C14 में कुल न्यूट्रॉनों की संख्या एवं कुल द्रव्यमान की गणना कीजिए। STP पर NH3 के 34 mg…

MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 9 हाइड्रोजन

MP Board Class 11th Chemistry Solutions Chapter 9 हाइड्रोजन हाइड्रोजन NCERT अभ्यास प्रश्न प्रश्न 1. हाइड्रोजन के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास के आधार पर आवर्त सारणी में इसकी स्थिति को युक्तिसंगत ठहराइए। उत्तर: हाइड्रोजन आवर्त सारणी में स्थित प्रथम तत्व है। इसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 1s1  है। यह क्षार धातुओं की भाँति, एक इलेक्ट्रॉन का त्याग करके H+ आयन बना सकता है। यह हैलोजनों की भाँति, एक इलेक्ट्रॉन ग्रहण करके H आयन भी बना सकता है। क्षारीय धातुओं की भाँति यह ऑक्साइड, हैलाइड तथा सल्फाइड बनाता हैं। यद्यपि क्षारीय धातुओं के विपरीत इसकी आयनन एन्थैल्पी उच्च होती है तथा सामान्य स्थितियों में यह धात्विक व्यवहार प्रदर्शित नहीं करता है। वास्तव में आयनन एन्थैल्पी के पदों में यह हैलोजनों से अधिक समानता प्रदर्शित करता है। हैलोजनों के समान, यह द्विपरमाणुक अणु बनाता है, तत्वों से क्रिया करके हाइड्राइड तथा अनेक सहसंयोजी यौगिक बनाता है। यद्यपि हैलोजनों के विपरीत इसकी क्रियाशीलता बहुत कम होती हैं। अतः उपरोक्त गुणों के आधार पर, आवर्त सारणी में हाइड्रोजन को क्षार धातुओं के साथ वर्ग-1 तथा प्रथम आवर्त अथवा हैलोजन के साथ वर्ग-17 तथा प्रथम आवर्त में रखना चाहिए। यद्यपि क्षार धातुओं तथा हैलोजनों के साथ गुणों में समानता के साथ-साथ, यह क्षार धातुओं तथा हैलोजनों के साथ गुणों…

MP Board Class 11th Special Hindi छन्द

MP Board Class 11th Special Hindi छन्द छन्द शब्द छद् धातु से निष्पन्न होकर असन् प्रत्यय लगाने से बना है। इसका अर्थ है प्रसन्न करना, बाँधना अथवा आच्छादित करना। छन्द मात्रिक और वार्णिक भेदों के आधार पर ध्वनियों के क्रम से गति और यति के नियमों से बँधा होता है। इससे कविता में प्रवाह, लय और संगीतात्मकता की उत्पत्ति होती है। छन्दों के दो भेद हैं 1. मात्रिक और वर्णिक [2008] मात्राओं की गणना किए जाने वाले छन्दों को मात्रिक छन्द और वर्गों की संख्या तथा हस्व दीर्घ स्वरों की गणना किए जाने वाले छन्दों को वर्णिक छन्द कहते हैं। 2. कुण्डलियाँ [2008, 09, 12] कुण्डलियाँ छः पंक्तियों का छन्द है। इसके प्रथम दो दल दोहे के तथा अन्तिम चार दल रोला के होते हैं। इसके प्रत्येक चरण में 24-24 मात्राएँ होती हैं। उदाहरण- 1 ऽऽ।।।। ऽ।।।।।।ऽऽ =24 सोई अवसर के परे को न सहै दुःख द्वन्द्व ऽ।। ऽऽ ऽ।।। ऽ ऽ ऽ ।।ऽ। =24 जाय बिकाने डोम घर वै राजा हरिचन्द वै राजा हरिश्चन्द करै मरघट रखवारी। धरे तपस्वी भेष फिरे अर्जुन बलधारी।। कह गिरिधर कविराय, तपै वह भीम रसोई। को न करै घटि काम सरे अवसर के सोई।। उदाहरण 2 ।।ऽ।।।।ऽ।।।।। ऽऽ ऽ ऽ। “रहिये लट पट काटि…

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 2 जीव जगत का वर्गीकरण

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 2 जीव जगत का वर्गीकरण जीव जगत का वर्गीकरण NCERT प्रश्नोत्तर अध्याय 2 जीव जगत का वर्गीकरण MP Board Class 11th प्रश्न 1. वर्गीकरण की पद्धतियों में समय के साथ आए परिवर्तनों की व्याख्या कीजिए। उत्तर: 1. लिनीयस: कैरोलस लिनीयस (1707 – 1778) एक प्रमुख स्वीडिश जीव विज्ञानी थे, जिन्हें जीव विज्ञान विषय में उनके योगदान के कारण वर्गीकरण का जनक कहा जाता है। ये वर्गीकरण की द्वि – जगत वर्गीकरण पद्धति के जनकों में से एक हैं। आज भी हम इन्हीं के वर्गीकरण को आधार मानकर जीवों का आधुनिक वर्गीकरण करते हैं । इन्होंने सम्पूर्ण जीवों को दो जगत जन्तु एवं पादप में बाँटा है। जीवों के नामकरण की द्वि-नाम नामकरण पद्धति के भी जनक लिनीयस ही थे, जिसके कारण जीवों को पूरे विश्व में एक नाम मिला एवं जीव विज्ञान का अध्ययन आसान बना। इन्होंने अपनी पुस्तक ‘सिस्टेमा नेचुरी’ में 4378 जन्तुओं को वैज्ञानिक नाम दिया। 2. कृत्रिम वर्गीकरण: कृत्रिम वर्गीकरण, वर्गीकरण की प्राचीनतम एवं अप्राकृतिक पद्धति है, जिसमें जीवों को, उनके एक या कुछ लक्षणों जैसे-आवास, बाह्य आकार, व्यवहार तथा आकृति की समानता आदि को आधार मानकर वर्गीकृत किया जाता है। वर्गीकरण की यह पद्धति 300 B.C. से सन् 1830…

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 10 कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 10 कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन NCERT प्रश्नोत्तर प्रश्न 1. स्तनधारियों की कोशिकाओं की औसत कोशिका-चक्र अवधि कितनी होती है ? उत्तर: स्तनधारियों की कोशिकाओं की औसत कोशिका-चक्र की अवधि 24-25 घण्टे होती है। प्रश्न 2. जीवद्रव्य विभाजन व केन्द्रक विभाजन में क्या अंतर है ? उत्तर: जीवद्रव्य विभाजन (Cytokinesis) में कोशिका-द्रव्य का विभाजन होता है जबकि केन्द्रक विभाजन (Karyokinesis) में कोशिका के केन्द्रक का विभाजन होता है। प्रश्न 3. अंतरावस्था में होने वाली घटनाओं का वर्णन कीजिए। उत्तर: अंतरावस्था(इण्टरफेज) दो विभाजनों के बीच की अवस्था है, जिसमें निम्नलिखित तीन अवस्थाएँ पायी जाती हैं – (i)G1फेज-इस अवस्था में प्रोटीन एवं RNA का संश्लेषण किया जाता है। (ii) S फेज-इस अवस्था में DNA एवं हिस्टोन प्रोटीन का संश्लेषण होता है। (ii) G2फेज-इस अवस्था में आवश्यक प्रोटीन तथा RNA का संश्लेषण किया जाता है तथा विभिन्न कोशिकांगों का निर्माण होता है। प्रश्न 4. कोशिका-चक्र की G0(प्रशांत अवस्था) क्या है ? उत्तर: वे कोशिकाएँ जो आगे विभाजित नहीं होती हैं तथा निष्क्रिय अवस्था में पहुँचती हैं, जिसे कोशिका, चक्र की प्रशांत अवस्था (G0) कहा जाता है। इस अवस्था की कोशिका उपापचयी रूप से सक्रिय होती है, लेकिन विभाजित नहीं होती, इनमें…

MP Board Class 11th Chemistry Important Questions with Answers

MP Board Class 11th Chemistry Important Questions with Answers

MP Board Class 11th Chemistry Important Questions brings you the latest questions and solutions in accordance with the latest NCERT Madhya Pradesh Syllabus guidelines. MP Board Class 11th Chemistry Important Questions in English Medium Chapter 1 Some Basic Concepts of Chemistry Important Questions Chapter 2 Structure of Atom Important Questions Chapter 3 Classification of Elements and Periodicity in Properties Important Questions Chapter 4 Chemical Bonding and Molecular Structure Important Questions Chapter 5 States of Matter Important Questions Chapter 6 Thermodynamics Important Questions Chapter 7 Equilibrium Important Questions Chapter 8 Redox Reactions Important Questions Chapter 9 Hydrogen Important Questions Chapter 10 The s-Block Elements Important Questions Chapter 11 The p-Block Elements Important Questions Chapter 12 Organic Chemistry: Some Basic Principles and Techniques Important Questions Chapter 13 Hydrocarbons Important Questions Chapter 14 Environmental Chemistry Important Questions Thus, MP Board Class 11th Chemistry Important Questions with Answers would help them to prepare for board examinations.

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 1 जीव जगत

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 1 जीव जगत जीव जगत NCERT प्रश्नोत्तर जीव जगत में विविधता Class 11 MP Board Chapter 1 प्रश्न 1. जीवों को वर्गीकृत क्यों करते हैं ? उत्तर: जैव-वर्गीकरण का उद्देश्य बड़ी संख्या में ज्ञात पादपों और जन्तुओं को ऐसे वर्गों में व्यवस्थित करना है, कि उन्हें नाम प्रदान किया जा सके एवं अध्ययन में सरलता हो। जीवों को वर्गीकृत करने से निम्नलिखित लाभ हैं – इसके कारण विश्व के विविध प्रकार, असंख्य जीवों के अध्ययन में सुविधा होती है। इसके कारण जन्तु पादपों के सम्बन्धों का पता चलता है। इसके कारण जीवों को पहचानने में सरलता होती है। जीवों की उत्पत्ति तथा दूसरे जीवों से सम्बन्ध का पता चलता है। इसके कारण जीवों के विकास के क्रम एवं प्रमाण का पता लगता है। जीव जगत के प्रश्न उत्तर MP Board Chapter 1 प्रश्न 2. वर्गीकरण प्रणाली को बार-बार क्यों बदलते हैं ? उत्तर: वर्गीकरण प्रणाली को बार-बार बदलने का प्रमुख कारण जैव – विकास है। जीवों में सतत् चलने वाली विकास प्रक्रिया के कारण नई-नई विभिन्न प्रजातियों के पादप एवं जन्तु पहले से मौजूद जीव-विविधता (Bio – diversity) से जुड़ते जाते हैं। इन नवीन जीवों को पहचानकर वर्गीकरण प्रणाली से संबद्ध किया जाता…

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 5 पुष्पी पादपों की आकारिकी

MP Board Class 11th Biology Solutions Chapter 5 पुष्पी पादपों की आकारिकी पुष्पी पादपों की आकारिकी NCERT प्रश्नोत्तर प्रश्न 1. मूल के रूपान्तरण से आप क्या समझते हैं? निम्नलिखित में किस प्रकार का रूपान्तरण पाया जाता है – बरगद शलजम मैंग्रूव वृक्ष? उत्तर: जड़ें कुछ विशिष्ट कार्यों को सम्पादित करने के लिए अपने रूप में परिवर्तन कर लेती हैं। इस क्रिया को रूपान्तरण (Modification) कहते हैं। जड़ों में रूपान्तरण भोजन संग्रहण, यांत्रिक कार्यों तथा श्वसन के लिए होता है। बरगद – इसमें जड़ों का रूपान्तरण स्तम्भमूल (Prop root) के रूप में होता है, जिससे तने की क्षैतिज शाखाओं से वायवीय जड़ें निकलकर भूमि में प्रविष्ट कर जाती हैं। शलजम – भोजन संग्रह करने के लिए जड़ का ऊपरी भाग फुलकर कुंभीरूप (Napiform) में रूपान्तरित हो जाता है। मैंग्रूव वृक्ष – इसमें जड़ें श्वसनमूल (Respiratory roots) में रूपान्तरित होकर भूमि के ऊपर आ जाती हैं। इन श्वसन मूलों में अनेक वातरन्ध्र पाये जाते हैं जहाँ से वायुमण्डलीय O2 जड़ों में प्रवेश करके वायु की कमी को पूरा करते हैं। प्रश्न 2. बाह्य लक्षणों के आधार पर निम्नलिखित कथनों की पुष्टि कीजिए – पौधे के सभी भूमिगत भाग सदैव मूल नहीं होते। फूल एक रूपान्तरित प्ररोह है। उत्तर: 1. पौधे के सभी…

MP Board Class 11th Special Hindi शुद्ध वाक्य रचना सम्बन्धी नियम

MP Board Class 11th Special Hindi शुद्ध वाक्य रचना सम्बन्धी नियम वाक्य रचना की सामान्य अशुद्धियाँ वाक्य रचना में होने वाली सामान्य अशुद्धियाँ प्रायः इस प्रकार हैं 1. वचन सम्बन्धी अशुद्धियाँ-आदि, अनेक अथवा बहुवचन संज्ञा की क्रियाओं में प्रायः वचन सम्बन्धी त्रुटियाँ हो हैं। जैसे- अशुद्ध वाक्य – शुद्ध वाक्य (1) मैंने आज फूल आदि खरीदा। – (1) मैंने आज फूल आदि खरीदे। (2)मैंने अनेकों स्थान देखे। – (2) मैंने अनेक स्थान देखे। (3) बार-बार एक ही बात सुनते-सुनते मेरा कान पक गया। – (3) बार-बार एक ही बात सुनते-सुनते मेरे कान पक गये। 2. लिंग सम्बन्धी अशुद्धियाँ-विशेषण और विशेष्य का लिंग एक जैसा हो, समस्त पदों के सर्वनाम का लिंग एवं क्रिया का लिंग अन्तिम पद के अनुसार होना चाहिए। उदाहरण अशुद्ध वाक्य – शुद्ध वाक्य (1) सीता एक विद्वान् छात्रा है। – (1) सीता एक विदुषी छात्रा है। (2) मैं अपनी देवी-देवताओं को मानता हूँ। – (2) मैं अपने देवी-देवताओं को मानता हैं। (3) रीता ने आज मिष्ठान्न और नमकीन खरीदी। – (3) रीता ने आज मिष्ठान्न और नमकीन खरीदे। 3. अर्थ सम्बन्धी अशुद्धियाँ अशुद्ध वाक्य – शुद्ध वाक्य (1) आपकी सौजन्यता से मुझे कार्य मिला। – (1) आपके सौजन्य से मुझे कार्य मिला। [2009] (2) निरपराधी को…