Guys who are planning to learn the fundamentals of English can avail the handy study material using MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 14 Azad: The Martyr Questions and Answers. You Can Download MP Board Class 8 English Solutions Questions and Answers, Notes, Summary, Guide, Pdf. Refer to the Madhya Pradesh State Board Solutions for English PDF available and score better grades. Simply click on the quick links available for MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 14 Azad: The Martyr Questions and Answers and prepare all the concepts in it effectively. Take your preparation to the next level by availing the Madhya Pradesh State Board Solutions for Class 8 English prepared by subject experts.

MP Board Class 8th General English Solutions Chapter 14 Azad: The Martyr

Do you feel the concept of English is difficult to understand? Not anymore with our MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 14 Azad: The Martyr Questions and Answers. All the Solutions are given to you with detailed explanation and you can enhance your subject knowledge. Use the Madhya Pradesh State Board Solutions for Class 8 English PDF for free of cost and prepare whenever you want.

Azad: The Martyr Textual Exercise

Read and Learn
(पढ आर याद:)
Answer:
Do Yourself.

Word Power
(शब्द सामर्थ्य):

A. The letters in the following words are jumbled. Rearrange them to make meaningful words:
(निम्नलिखित शब्दों के अक्षरों को अस्त-व्यस्त कर दिया गया है। उन्हें अर्थपूर्ण शब्द बनाने के लिये पुनः व्यवस्थित करें:)
Answer:
MP Board Class 8th General English Chapter 14 Azad The Martyr-1

B. Make antonyms of the following words by using the prefix ‘dis’:
(उपसर्ग लगकर नम्नलिखित शब्दो के विलोम लिखें:)

  1. appoint
  2. courage
  3. appear
  4. able
  5. agree
  6. comfort
  7. connect

Answer:

  1. disappoint
  2. discourage
  3. disappear
  4. disable
  5. disagree
  6. discomfort
  7. disconnect.

Now complete the following sentences using the correct form of the words from the box:
(अब बॉक्स में से शब्दों के सही रूप लेकर निम्नलिखित वाक्यों को पूरा करोः)

  1. His father ……….. to his joining politics.
  2. The mice ……. as soon as they saw the cat.
  3. Meghna was ……. to see her marks in English.
  4. He was …….. after the car accident.
  5. They ………….. the phone because people were misusing it.
  6. One should not …….. the children.
  7. Although he comes from a royal family, he put up with all the ………।

Answer:

  1. disaggreed
  2. disappeared
  3. diappointed,
  4. disabled
  5. disconnected
  6. discourage
  7. discomfort.

C. Use the following pair of words in sentences to show the difference in their meanings as given in the example:
(उदाहरण में दिये के अनुसार निम्नलिखित शब्दों के जोड़ों को उनके अर्थों में भिन्नता दिखाने के लिए वाक्यों में प्रयोग करें:)
1. Sun – The sun sets in the west.
Son-I have one son.

2. New – My pink dress is new.
Knew – Ram knew my address.

3. Wait – Please wait for a minute.
Weight – My weight is 40 kg.

4. See – We all see with our eyes.
Sea – The sea water is salty.

5. Pray – We should all pray to God.
Prey – The lion was killing its prey.

6. Hear – We hear with our ears.
Here Please come here.

7. Hair – I have short hair.
Hare – Hare is a swift animal.

Comprehension
(बोध प्रश्न):

Question 1.
When and where was Chandra Shekhar born ?
(व्हेन एण्ड व्हेयर वॉज़ चन्द्रशेखर बॉर्न ?)
चन्द्रशेखर का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?
Answer:
Chandra Shekhar was born on 23rd July, 1906 in village Bhabra in Jhabua district.
(चन्द्रशेखर वॉज़ बॉर्न ऑन 23 जुलाई, 1906 इन विलेज भाबरा इन झाबुआ डिस्ट्रिक्ट।)
चन्द्रशेखर का जन्म 23 जुलाई, 1906 को भाबरा गाँव, जिला झाबुआ में हुआ था।

Question 2.
Where did he receive his early education ?
(व्हेअर डिड ही रिसीव हिज़ अर्ली एज्यूकेशन ?)
उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा कहाँ प्राप्त की।
Answer:
He received his early education in Bhabra.
(ही रिसीव्ड हिज़ अर्ली एज्यूकेशन इन भाबरा।)
उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा भाबरा में प्राप्त की।

Question 3.
In 1920-21 which movement attracted Chandra Shekhar ?
(इन 1920-21 विच मूवमेण्ट अट्रैक्टिड चन्द्र शेखर ?)
सन् 1920-21 में चन्द्र शेखर को किस आन्दोलन ने आकर्षित किया ?
Answer:
He was attracted by the non-cooperation movement of 1920-21 under the leadership of Mahatma Gandhi.
(ही वॉज़ अट्रैक्टिड बॉय द नॉन कोऑपरेशन मूवमेंट ऑफ 1920-21 अन्डर द लीडरशिप ऑफ महात्मा गाँधी.)
वो महात्मा गाँधी के नेतृत्व में होने वाली, नॉन-कोऑपरेशन मूवमेन्ट जो 1920-21 में हुई, से आकर्षित हुए।

Question 4.
One of Chandra Shekhar’s statement provoked the magistrate. What was that statement ?
(वन ऑफ चन्द्र शेखर्स स्टेटमेन्ट प्रोवोक्ड द मैजिस्ट्रेट। व्हॉट वॉज़ दैट स्टेटमेन्ट ?)
चन्द्र शेखर के एक कथन ने मजिस्ट्रेट को भड़का दिया था। वह कथन क्या था ?
Answer:
He gave his name as ‘Azad’, his father’s name as ‘Swatantra, and his residence as ‘Prison’. This provoked the magistrate.
(ही गेव हिज नेम ऐज़ ‘आजाद’, हिज़ फादर्स नेम ऐज़ ‘स्वतन्त्र’, एण्ड हिज़ रेसिडेन्स ऐज़ ‘प्रिज़न’. दिस प्रोवोक्ड द मेजिस्ट्रेट.)
उन्होंने अपना नाम ‘आज़ाद’ बताया, अपने पिता का नाम ‘स्वतन्त्र’ व घर ‘जेल’ बताया। इससे मजिस्ट्रेट भड़क गए।

Question 5.
Why was British police able to surround him?
(व्हाई वाज ब्रिटिश पुलिस ऐबिल टू सराउन्ड हिम ?)
ब्रिटिश पुलिस उनको चारों ओर से घेरने में क्यों समर्थ थी ?
Answer:
On February 27, 1931 Chandra Shekar Azad met two of his comrades at Alfred Park in Allahabad. He was betrayed by an informer to British Police. So he was surrounded by British Police.
(ऑन फैब्रुऐरी 27, 1931 चन्द्रशेखर आजाद मेट टू हिज कॉमरेड्स ऐट अल्फ्रेड पार्क इन अलाहाबाद. ही वाज बिट्रेड बाइ ऐन इनफोरमर टू ब्रिटिश पुलिस. सो ही वाज सराउन्डड बाइ ब्रिटिश पुलिस.)
27 फरवरी, 1931 को चन्द्रशेखर आजाद इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में अपने दो साथियों से मिले। किसी एक मुखबिर ने ब्रिटिश पुलिस को सूचना देकर उनके साथ विश्वासघात कर दिया। अतः वह ब्रिटिश पुलिस द्वारा घेर लिये गये।

Question 6.
How did Chandra Shekhar prove his name Azad ?
(हाउ डिड चन्द्रशेखर प्रूव हिज़ नेम आजाद ?)
चन्द्रशेखर ने अपना नाम आज़ाद कैसे सिद्ध किया ?
Answer:
Once he was surrounded by police in a park. He didn’t surrender but shot himself. Thus he proved his name Azad by not being caught alive.
(वन्स ही वॉज़ सराउन्डिंड बाय पुलिस इन अ पार्क. ही डिडन्ट सरेन्डर बट शॉट हिमसेल्फ. दस ही प्रूव्ड हिज़ नेम आज़ाद बाय नॉट बीइन्ग कॉट अलाइव।)
एक बार पुलिस ने एक पार्क में उन्हें घेर लिया था। उन्होंने समर्पण नहीं किया, पर स्वयं को गोली मार ली। इस तरह उन्होंने जिन्दा न पकड़े जाने से अपना नाम आजाद सिद्ध कर दिया।

Let’s Learn
(आओ याद करें):

You meet Manju and she tells you about her grandmother. Now tell your friend Anil what Manuja told you.
(तुम मंजू से मिलती हो और वह अपनी दादी के बारे में तुम्हें बताती है। अब अपने मित्र अनिल को जो अंजू ने कहा, बताओ।)
Answer:

  1. She told that her grandmother was widely travelled.
  2. She told that her grandmother had recently bought a new dress.
  3. She told that her grandmother had written number of books.
  4. She told that her grandmother was very interesting company.
  5. She told that her grandmother had recently broken her left foot.

Let’s Talk
(आओ बात करें):

The timetable for class VIII is given below. Use the information given in the timetable to complete the conversation between Abdul and Meena. (Work in Pairs)
(कक्षा VIII की समय-सारणी नीचे दी गई है। अब्दुल और मीना के बीच हुई बातचीत को समय-सारणी में ही सूचना का प्रयोग कर पूरा करो।)

Abdul : Hellow, Meena ! When did you come back ? (I had a lovely time. It was a long journey to Kolkata.)
Meena : Hello, Abdul ! Glad to see you. I came back yesterday. My journey was enjoyable. I was in Delhi for 2 weeks.
Abdul : Now you have to study again according to your timetable. Have you seen it ?
Meena : Yes’ have you seen it ?
Abdul: No, that’s why I want to know something about it.
Abdul : Who teaches us EVS?
Meena : Mr. R. Khan teaches us EVS.
Abdul : How long is the lunch break ?
Meena : The Lunch break is 35 minutes long.
Abdul : When does the science class begin ?
Meena : The science class begins at 2:30 p.m.
Abdul : In which period do we have sports ?
Meena : We have sports in 7th period.
Abdul : What does Mr. Mathew teach ?
Meena : Mr. Mathew teaches us Maths.
Abdul : What is taught in the fifth period ?
Meena : Sanskrit is taught in the fifth period.
Abdul : At what time does the school close ?
Meena : Our school closes at 3.40 p.m.

Let’s Read
(आओ पढ़ें):

Read the given passage carefully:
Now answer the following questions:
(दिये गये गद्यांश को पढ़ें। अब निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें।
(A) Say whether the following statements are true or false.

  1. Bhagat Singh’s name echoed all over the country.
  2. His name did not inspire the youth of India.

Answer:

  1. True
  2. False.

(B) 1. “Bhagat Singh became a symbol of freedom.” Who said this?
Answer:
Pandit Jawahar Lal Nehru said this.

2.. Arrange the following words in an alphabetical order
Answer:
amazing, brought, hero, symbol.

3. Supply a suitable title to the passage.
Answer:
Suitable title to the passage is –
“Bhagat Singh : A Real Hero.”

Let’s Write
(आओ लिखो):

Write a paragraph about Chandra Shekhar Azad by putting the given sentences in the correct order:
(दिये गये वाक्यों को सही क्रम में रखकर चन्द्रशेखर आजाद के बारे में एक पैराग्राफ लिखोः)
Answer:
Chandra Shekhar was born in village Bhabra in Jhåbua district. For higher education he went to Sanskrit Pathshala at Varanasi. As a revolutionary, he adopted the surname ‘Azad’. He was deeply hurt by the Jallianwala Bagh massacre in Amritsar in 1919. A special award will be presented at Balidan Diwas.

Let’s do it
(आओ इसे करें):

(1) Collect the pictures of any five patriotic leaders. Paste them in your notebook and write five sentences on each:
(किन्हीं पाँच देशभक्त नेताओं के चित्र एकत्रित करो। उन्हें अपनी नोट-बुक में चिपकाओ और प्रत्येक पर पाँच वाक्य लिखोः)

(2) Class game/Activity
Divide the class into two teams. The first team mentions three things about a person, an object or a thing that everybody known is the class. The other team guesses who the person or what the object or thing is. One example has been given.
(कक्षा खेल/क्रिया कलाप)
(कक्षा को दो टीमों में बाँट दो। पहली टीम एक व्यक्ति, एक उद्देश्य या वस्तु के बारे में तीन बात बताती है जो कक्षा में सभी जानते हैं। दूसरी टीम अनुमान लगाती है कि वह व्यक्ति, उद्देश्य या चीज कौन-सी है। एक उदाहरण दिया गया है।)
Answer:
(1) Students can collect the pictures of patriots such as Bhagat Singh, Chandra Shekhar “Azad’, Mahatma Gandhi, Lal Bahadur Shastri and Bal Gangadhar Tilak. They can themselves write five sentences on each
(2) Students can do this in their class themselves.

Azad: The Martyr Word Meanings

Receive (रिसीव) – पाना; Ardent (आर्डेन्ट) – प्रबल, तीव्र; Followers (फॉलोअर्स) – शिष्य, अनुयायी; Disguised (डिज़गाइज़्ड) – छद्म वेश; Betray (बिट्रे) – धोखा देना, विश्वासघात करना; Escape (ऐस्केप) – बचाव; भाग – निकलना; Priest (प्रीस्ट) – पुजारी; Clutches (क्लचिस) – पकड़, चंगुल; Valiantly (वैलिअन्टली) – बहादुरी से; Provoke (प्रोवोक) – उकसाना, भड़काना; Pledge (प्लेज) – प्रतिज्ञा, वचन; Mentor (मेन्टर) – परामर्शदाता; Memorial (मेमोरियल) – यादगार, स्मारक; Flog (फ्लॉग)-कोड़े, लगाना; Claim (क्लेम) – दावा करना; Fierce (फिअर्स) – भयानक; Patriotism (पेट्रीऑटिज्म) – देशभक्ति; Revolutionary (रेवॉल्यूशनरी) – क्रान्तिकारी; Avenge (अवेन्ज) – बदला लेना; Involve (इनवॉल्व) – शामिल होना; Massacre (मेसैकर) – जनसंहार; Inspire (इन्सपायर) – प्रेरणा देना; Aggressive (अग्रेसिव) आक्रामक; Homage (होमेज) – श्रद्धांजलि; Capture (कैप्चर) – पकड़ना; Favorite (फेवरिट) – मनपसन्द।

Azad: The Martyr Summary, Pronunciation & Translation

1. Chandra Shekhar, son of Pandit Sita Ram Tiwari and Jagrani Devi, was born in village Bhabra in Jhabua district (Present Madhya Pradesh) on 23rd July 1906.

चन्द्रशेखर, सन ऑफ पंडित सीताराम तिवारी एण्ड जगरानी देवी, वाज़ बॉर्न इन विलेज भाबरा इन झाबुआ डिस्ट्रिक्ट (प्रेजेन्ट मध्य प्रदेश) ऑन ट्वन्टी थर्ड जुलाई, 1906.

अनुवाद:
पंडित सीताराम तिवारी और जगरानी देवी के पुत्र चन्द्रशेखर का जन्म झाबुआ जिला (वर्तमान में मध्य प्रदेश)। के भाबरा गाँव में 23 जुलाई, 1906 को हुआ था।

2. He received his early education in Bhabra. For higher education he went to Sanskrit Pathshala at Varanasi. He was an ardent follower of Hanuman and once disguised himself as a priest in a Hanuman temple to escape the clutches of the British police. Young Chandra Shekhar was attracted by the great national upsurge of the non-violent non-cooperation movement of 1920 – 21 under the leadership of Mahatma Gandhi. He joined it and was arrested and produced before the magistrate. He gave his name as Azad’, his father’s name as ‘Swatantra’, and his residence as ‘Prison. This provoked the magistrate, who sentenced him for fifteen lashes of a flog.

ही रिसीव्ड हिज़ अर्ली एजुकेशन इन भाबरा. फॉर हायर एजूकेशन ही वैन्ट टु संस्कृत पाठशाला, ऐट वाराणसी. ही वाज़ ऐन ऑर्डेन्ट फालोअर ऑफ हनुमान एण्ड वन्स डिसगाइज्ड हिमसैल्फ ऐज़ अ पीस्ट इन अ हनुमान टेम्पिल टु ऐस्केप द क्लचिस ऑफ द ब्रिटिश पुलिस. यंग चन्द्रशेखर वाज अट्रेक्टिड बाइ द ग्रेट नेशनल अपसर्ज ऑफ द नान-वायलेंट नॉन-कोऑपरेशन मूवमेंट ऑफ. 1920-21 अण्डर द लीडरशिप ऑफ महात्मा गाँधी. ही जॉइन्ड इट एण्ड वाज़ अरैस्टिड एण्ड प्रोड्यूस्ड बिफोर द मजिस्ट्रेट. ही गेव हिज़ नेम ऐज़ ‘आजाद’, हिज़ फादर्स नेम ऐज़ ‘स्वतन्त्र’, एण्ड हिज़ रेजीडेन्स एज़ ‘प्रिज़न’. दिस प्रोवोक्ड द मजिस्ट्रेट, हू सेन्टेन्स्ड हिम फॉर फिफ्टीन लैशेस ऑफ अ फ्लॉग।

अनुवाद:
उनकी प्रारम्भिक शिक्षा भाबरा में हुई। उच्च शिक्षा उन्होंने वाराणसी के संस्कृत पाठशाला में प्राप्त की वह हनुमान के अत्यधिक भक्त थे और एक बार ब्रिटिश पुलिस के चंगुल से बचने के लिए उन्होंने एक हनुमान मन्दिर में पुजारी बनने का स्वांग रचा। युवा चन्द्रशेखर महात्मा गाँधी के नेतृत्व में 1920-21 के अहिंसक असहयोग आन्दोलन की महान राष्ट्रीय लहर से अत्यधिक प्रभावित थे। उन्होंने इसमें भाग लिया और गिरफ्तार हुए और मजिस्ट्रेट के सामने पेश हुए। उन्होंने अपना नाम ‘आजाद’,अपने पिता का नाम ‘स्वतन्त्र’ और अपना निवास-स्थान जेल को बताया। इससे मजिस्ट्रेट भड़क गया और उसने उन्हें 15 कोड़ों की सजा दे दी।

3. As a revolutionary, he adopted the surname ‘Azad’ which means ‘free’. He once claimed that as he was named “Azad’ he would never be taken alive by the police. Chandra Shekhar Azad was a great Indian freedom fighter. His fierce patriotism and courage inspired others to enter the freedom struggle. Chandra Shekhar was the mentor of Bhagat Singh, who was also a great freedom fighter. Both Chandra Shekhar and Bhagat Singh actively participated in revolutionary activities. He was deeply troubled by the Jallianwala Bagh massacre in Amritsar in 1919. He was also involved in the Kakori Case.

ऐज़ अ रिवॉल्यूशनरी, ही अडॉप्टिड द सरनेम आज़ाद ‘व्हिच मीन्स ‘फ्री’. ही वन्स क्लेम्ड दैट ऐज़ ही वाज़ नेम्ड ‘आज़ाद’ ही वुड नैवर बी टेकन अलाइव बाइ द पुलिस. चन्द्रशेखर आजाद वाज़ अ ग्रेट इण्डियन, फ्रीडम फाइटर, हिज फीअर्स पेट्रियोटिज्म एण्ड करेज इन्सपायर्ड अदर्स टु एण्टर द फ्रीडम स्ट्रगल. चन्द्रशेखर वाज़ द मेंटर ऑफ भगत सिंह, हू वाज़ ऑल्सो अ ग्रेट फ्रीडम फाइटर । बोथ चन्द्रशेखर एण्ड भगत सिंह ऐक्टिवली पार्टीसिपेटिड इन रिवॉल्यूशनरी ऐक्टिविटीज़. ही वाज़ डीपली ट्रबल्ड बाइ द जलियाँवाला बाग मैसेकर इन अमृतसर इन 1919. ही वाज़ ऑल्सो इन्वॉल्वड् इन द काकोरी केस.

अनुवाद:
एक क्रान्तिकारी के रूप में उन्होंने अपना उपनाम ‘आजाद’ रख लिया जिसका अर्थ ‘स्वतन्त्र’ है। उन्होंने यह दावा किया था कि अपने नाम के अनुरूप वह पुलिस द्वारा कभी जीवित नहीं पकड़े जाएँगे। चन्द्रशेखर आज़ाद महान भारतीय स्वतन्त्रता सेनानी थे। उनकी प्रचण्ड राष्ट्रभक्ति एवं साहस ने अन्य लोगों को स्वतन्त्रता आन्दोलन से जुड़ने को प्रेरित किया। चन्द्रशेखर भगत सिंह के गुरु थे, जो एक महान् स्वतन्त्रता सेनानी थे। चन्द्रशेखर एवं भगत सिंह दोनों ने क्रान्तिकारी गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर भाग लिया। वह 1919 में अमृतसर के जलियाँवाला बाग जनसंहार से बहुत अधिक दुःखी (परेशान) हुए। वह काकोरी के काण्ड में भी सम्मिलित थे।

4. After the suspension of the non-cooperation movement he was attracted towards more aggressive revolutionary ideals.Chandra Shekhar was a terror for the British police. He was on their hit list and the British police badly wanted to capture him dead or alive. On February 27, 1931, Chandra Shekhar Azad met two of his comrades at the Azad Park (Alfred Park) in Allahabad. He was betrayed by an informer to the British police. The police surrounded the park and ordered Chandra Shekhar Azad to surrender. Azad fought valiantly and killed three policemen. But finding himself surrounded, he shot himself. Thus he kept his pledge of not being caught alive. He used to recite his favourite Hindustani couplet.

आफ्टर द सस्पेंशन ऑफ द नॉन-कोऑपरेशन मूवमेंट ही वाज़ अट्रैक्टिड टुवर्ड्स मोर अग्रेसिव रिवॉल्यूशनरी आइडियल्स. चन्द्रशेखर वाज़ अ टेरर फॉर द ब्रिटिश पुलिस. ही वाज़ ऑन देअर हिट लिस्ट एण्ड द ब्रिटिश पुलिस बैंडली वॉन्टेड टु कैप्चर हिम डैड ऑर अलाइव. ऑन फेब्रुअरी 27, 1931, चन्द्रशेखर आजाद मैट टू ऑफ हिज़ कॉमरेड्स ऐट द आज़ाद पार्क (अल्फ्रेड पार्क) इन इलाहाबाद. ही वाज़ ब्रिट्रेड बाइ ऐन इन्फॉर्मर टु द ब्रिटिश पुलिस द पुलिस सराउन्डिड द पार्क एण्ड ऑर्डर्ड चन्द्रशेखर आजाद टु सरेन्डर. आज़ाद फॉट वैलिएण्ट्ली एण्ड किल्ड थ्री पुलिसमैन. बट फाइंडिंग हिमसैल्फ सराउन्डिड, ही शॉट हिमसैल्फ. दस ही कैप्ट हिज़ प्लैज ऑफ नॉट बीइंग कॉट अलाइव। ही यूज्ड टु रिसाइट हिज़ फेवरिट हिन्दुस्तानी कप्लेट.

अनुवाद:
असहयोग आन्दोलन के थम जाने के बाद वे और अधिक आक्रामक क्रान्तिकारी आदर्शों की ओर आकर्षित हुए। चन्द्रशेखर ब्रिटिश पुलिस के लिए एक आतंक थे। वह उनके निशाने पर थे और ब्रिटिश पुलिस उन्हें किसी भी तरह जीवित या मृत पकड़ना चाहती थी। 27 फरवरी, 1931 को चन्द्रशेखर आजाद इलाहाबाद के आजाद पार्क (अल्फ्रेड पार्क) में अपने दो साथियों से मिलने आये। ब्रिटिश पुलिस के एक मुखबिर द्वारा उनके साथ विश्वासघात किया गया। पुलिस ने पार्क को चारों ओर से घेर लिया और चन्द्रशेखर आजाद से समर्पण करने को कहा। आज़ाद बहादुरी के साथ लड़े और उन्होंने तीन पुलिसकर्मियों को मार दिया। लेकिन स्वयं को चारों ओर से घिरे हुए देखकर उन्होंने स्वयं को गोली मार ली। इस प्रकार उन्होंने स्वयं को जीवित न पकड़े जाने के प्रण को निभाया। वह अपने प्रिय हिन्दुस्तानी दोहे को गाते रहते थे।

5. Dushman ki goliyon ka hum samna karenge Azad hee rahe hain, Azad hee rahenge. To pay homage to such a revolutionary hero of Bharat Mata the State Government has decided to institute ‘Shaheed Chandra Shekhar Azad Memorial Award’. The Award will carry an amount of Rs. 1-50 Lakhs and be presented at a special function to be organized at Bhopal on Balidan Diwas of Chandra Shekhar Azad.

दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे. टु पे होमेज टु सच अ रिवॉल्यूशनरी हीरो ऑफ भारत माता, द स्टेट गवर्नमेंट हैज़ डिसाइडिड टु इन्सटिट्यूट “शहीद चन्द्र शेखर आजाद मैमोरियल अवार्ड”. द अवार्ड विल कैरी ऐन अमाउन्ट ऑफ रुपीज़ 1.50 लैक्स एण्ड बी प्रेजेन्टिड ऐट अ स्पेशल फंक्शन टु बी ऑर्गनाइज्ड ऐट भोपाल ऑन बलिदान दिवस ऑफ चन्द्रशेखर आजाद.

अनुवाद:
दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे आज़ाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे। भारत माता के ऐसे क्रान्तिकारी नायक को श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य सरकार ने ‘शहीद चन्द्रशेखर आजाद स्मृति पुरस्कार’ स्थापित करने का निर्णय किया है। पुरस्कार की राशि ₹ 1.50 लाख होगी और यह चन्द्रशेखर आज़ाद के बलिदान दिवस पर आयोजित एक विशेष समारोह में प्रदान किया जाएगा।

We wish the knowledge shared regarding MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 14 Azad: The Martyr Questions and Answers has been helpful to you. If you need any further help feel free to ask us and we will get back to you with the possible solution. Bookmark our site to avail the latest updates on different state boards solutions in split seconds.

Leave a Reply