Guys who are planning to learn the fundamentals of English can avail the handy study material using MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 12 Know More About Questions and Answers. You Can Download MP Board Class 8 English Solutions Questions and Answers, Notes, Summary, Guide, Pdf. Refer to the Madhya Pradesh State Board Solutions for English PDF available and score better grades. Simply click on the quick links available for MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 12 Know More About Questions and Answers and prepare all the concepts in it effectively. Take your preparation to the next level by availing the Madhya Pradesh State Board Solutions for Class 8 English prepared by subject experts.

MP Board Class 8th General English Solutions Chapter 12 Know More About

Do you feel the concept of English is difficult to understand? Not anymore with our MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 12 Know More About Questions and Answers. All the Solutions are given to you with detailed explanation and you can enhance your subject knowledge. Use the Madhya Pradesh State Board Solutions for Class 8 English PDF for free of cost and prepare whenever you want.

Know More About Textual Exercise

Read and Learn
(पढ़ो और याद करें):
Answer:
Do Yourself.

Word Power
(शब्द सामर्थ्य):

(A) Underline the silent letter in the following words:
(निम्न शब्दों में मूक अक्षरों को रेखांकित करें:)
Answer:

  1. edge
  2. tomb
  3. palm
  4. adjective
  5. bomb
  6. could
  7. badge
  8. comb
  9. walk

(B) Add suffix-ly to the following words and make sentences of your own with the same derivatives:
(निम्न शब्दों में प्रत्यय -ly जोड़ें और उन व्युत्पन्न शब्दों से अपने वाक्य बनाए)
Answer:
1. Beautiful → beautifully.
She writes beautifully.

2. Simple → simply.
It made him simply angry.

3. General→ generally.
He generally comes late at home.

4. Quiet → quietly.
He entered the room quietly.

5. Main → mainly.
He goes for outing mainly on Sundays.

6. Actual→ actually.
Actually he is a doctor.

Comprehension
(बोध प्रश्न) :

(A) Answer these questions.
इन प्रश्नों का उत्तर दें।

Question 1.
What does the word ‘Bhil’ stand for ?
(व्हॉट डज़ द वर्ड ‘भील’ स्टैण्ड फॉर ?)
भील शब्द का क्या अभिप्राय है ?
Answer:
The word ‘Bhil’ stands for bow, the weapon.
(द वर्ड भील स्टैण्ड्स फॉर बो, दे वेपन.)
भील शब्द का अर्थ कमान होता है, जो एक हथियार है।

Question 2.
Mention the names of tribal rich areas in M.P.
(मेन्शन द नेम्स ऑफ ट्राइबल रिच एरियास इन एम. पी.)
एमः पी. के जाति समृद्ध क्षेत्रों के नाम बताइए।
Answer:
The areas in which tribes live in M.P. are Jhabua, Dhar, Khargone, Barwani, Ratlam etc.
(द एरियास इन विच ट्राइब्स लिव इन एम. पी. आर. झाबुआ, धार, खरगोन, बरवानी, रतलाम ऐटसेटरा.)
जिन जगहों पर एम. पी. में जनजातियाँ पाई जाती हैं वो हैं झाबुआ, धार, खरगोन, बरवानी, रतलाम इत्यादि।

Question 3.
What is ‘Gatla’?
(व्हॉट इज़ ‘गट्ला ‘ ?)
गटला क्या है ?
Answer:
Gatla is a memory pillar which is stone carved and oil painted.
(गटला इज़ अ मेमोरी पिलर विच इज़ स्टोन कार्वड ऐण्ड ऑयल पेन्टिड।)
गटला एक यादगार खम्बा है जिस पर पत्थर नक्काशी हुई है व तैल चित्र बने हुए हैं।)

Question 4.
What kinds of dresses do the Bhil women wear ?
(वहॉट कांइन्ड्स ऑफ ड्रैसिस डूद भील विमेन वीयर.)
भील औरतें किस प्रकार के कपड़े पहनती हैं ?
Answer:
Women wear colorful ghaghara with polka, kanchali etc.
(विमेन वीयर कलरफुल घाघरा विद पोल्का, कन्छली ऐटसेटरा.)
औरतें रंग-बिरंगे घाघरे, पोल्का व कनछली आदि के साथ पहनती हैं।

Question 5.
What are the important dance forms of Bhils?
(व्हॉट आर द इम्पॉर्टेन्ट डान्स फॉर्स ऑफ भील्स ?)
भीलों के प्रमुख डाँस प्रकार कौन से हैं ?
Answer:
Important dance forms of Bhils are Solo, La hari, Pali, Dandavadi, Ghodo, Dang Solo and Chhalavadi. ,
(इम्पॉर्टेन्ट डाँस फॉर्स ऑफ भील्स आर सोलो, लहरी, पाली, डन्डावदी, घोदो, डाँग सोलो एण्ड छलवदी।)
भीलों के प्रमुख डाँस हैं सोलो, लहरी, पाली, डन्डावदी, घोदो, डाँग, सोलो और छलवदी।

Question 6.
Mention some of the names of the tribal personalities who have got recognition at international level.
(मेन्शन सम ऑफ द नेम्स ऑफ द ट्राइबल पर्सनैलिटीज़ हू हैव गॉट रेकग्निशन ऐट इन्टरनेशनल लेवल.)
कुछ भीलों के नाम बताएँ जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई है।
Answer:
Some of the tribal personalities who have got recognition at international level are Pema Fatya, Ram Singh Urveti, Rani Durgawati and Teejan Bai.
(सम ऑफ द ट्राइबल पर्सनेलिटीज़ हू हैव गॉट रेकग्निशन ऐट इन्टरनेशनल लेवल आर पेमा फत्या, रामसिंह उर्वेती, रानी दुर्गावती ऐण्ड तीजन बाई.)
इन जातियों के कुछ लोग जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई है पेमा फत्या, रामसिंह उर्वेती, रानी दुर्गावती व तीजन बाई।

Question 7.
Write a short note on the Bhagoria Haat.
(राइट अ शॉर्ट नोट ऑन द भगोरिया हाट.)
भगोरिया हाट पर एक टिप्पणी लिखें।
Answer:
The weekly market a week before Holi is Bhagoria Haat. The villagers dance, apply gulal on the faces of their relatives and friends and offer them sweets and snacks, ice – candies etc. The children enjoy the ride on the swings.
(द वीकली मार्केट अ वीक बिफोर होली इज़ भगोरिया हाट. द विलेजर्स डाँस, अप्लाई गलाल ऑन द फेसिस ऑफ देअर रिलेटिव्स एण्ड फ्रेन्ड्स एण्ड ऑफर दैम स्वीट्स एण्ड स्नैक्स, आइस कैन्डीस ऐटसेटरा. द चिल्ड्रन इन्जॉए द राइड ऑन द स्विंग्स.)
होली से एक हफ्ता पहले साप्ताहिक बाजार को भगोरिया हाट कहते हैं। इसमें गाँव वाले डाँस करते हैं। दोस्तों व रिश्तेदारों को गुलाल लगाते हैं और उन्हें मिठाइयाँ व नाश्ता आदि करवाते हैं। बच्चे झूलों पर आनन्द उठाते हैं।

‘B.’ Say Yes or No.
(हाँ या ना में उत्तर दें।)

  1. Do the Bhils live in pucca houses ?
  2. Are they fond of tattooing ?
  3. Are the Bhils proficient in stone craft ?
  4. Is Teejan Bai famous for singing Pandvani ?
  5. Do the Bhils like colorful dresses ?

Answer:

  1. Yes
  2. Yes
  3. No
  4. Yes
  5. Yes.

Let’s Learn
(आओ याद करें):

A. Change the following sentences into passive voice, the verbs are given in the brackets for your help.
(निम्न वाक्यों के positive voice बदलें:)
क्रियाएँ आपकी सहायता के लिए कोष्ठकों में दी गई है।)

  1. My mother writes detective stories. (are written)
  2. The children are flying kites. (are being flown)
  3. I have done the work. (has been done)
  4. She cooked food. (was cooked)
  5. They were painting the house. (was being painted)
  6. You had sold the car. (had been sold)
  7. The villagers will guide you. (will be guided)
  8. We will have done our work. (will have been done)
  9. A Gond woman is painting the walls. (are being painted)
  10. The boy gave me a toy. (was given)

Answer:

  1. Detective stories are written by my mother.
  2. Kites are being flown by the children.
  3. The work has been done by me.
  4. Food was cooked by her.
  5. The house was being painted by them.
  6. The car had been sold by you.
  7. You will be guided by the villagers.
  8. Our work will have been done by us.
  9. The walls are being painted by a Gond woman.
  10. A toy was given to me by the boy.

Let’s Talk
(आओ बात करें):

Read the following telephonic conversation between friends. Complete the further statements based on the advertisement of Trade Fair’ given in Let’s Read Exercise.
(मित्रों के मध्य हुए निम्नलिखित टेलीफोन वार्ता को पढ़ें।)
‘Let’s Read Exercise’ में दिये ‘Trade Fair’ के विज्ञापन पर आगे कथन को पूरा करें।)

Raman : May I talk to Suman ?
Suman : Yes, speaking, Good morning.
Raman : Good morning. Are you interested in visiting the Rural Trade Fair running in Bhopal Haat?
Suman : 0, Yes. I will be coming with you in the evening to visit the trade fair.
Raman : Do you know about the important features of this fair ?
Suman : No, this is my first opportunity to visit a Rural Fair.
Raman : It is being held from 2nd October to 30th October
Suman : You were talking about the important features.
Raman : Yes, the important feature is the magic hands of different artists from all over the state.
Suman : In there any specialty related to the dress material shop ?
Raman : Yes, there will be dress materials with bagh prints, pithora art, Bundani and Madhubani paintings.
Suman : Will there be any cultural programme also ?
Raman : Yes, there will be special presentations and cultural programmes also.
Suman : I am relay excited to visit the fair. O. K. Bye, We’ll be meeting tomorrow at 4 p.m.
Raman: Bye.

Let’s Read
(आओ पढ़ें):

Here is given an advertisement of a Rural / Tribal Trade fair. Read the given information and answer the questions that follow:
(यहाँ पर हम एक ग्रामीण/जनजातीय मेले का विज्ञापन है। निम्न सूचना को पढ़ें और दिये गये प्रश्नों के उत्तर दोः)

Question 1.
What are the main attractions of the trade fair ?
Answer:
The main attractions of the trade fair are metal craft, stone craft, wood craft, comb and basketry, maati work, clay, dress materials and cultural programmes.

Question 2.
Name the venue of this trade fair ?
Answer:
Bhopal Haat is the venue of this trade fair.

Question 3.
What is the duration of this fair ?
Answer:
The duration of this fair is 28 days i.e. from 2nd October, to 30th October.

Question 4.
Who is organizing this fair ?
Answer:
This fair is being organized by Panchyat and Rural Development dept. M.P. Govt., S.C. and S.T. Welfare Department.

Question 5.
How many stalls are there in this trade fair ?
Answer:
There are six stalls in this trade fair.

Question 6.
What types of dress materials are available in this trade fair ?
Answer:
The dress materials with Bagh Prints, Pithora Art, Bundani and Madhubani paintings are available in the trade fair.

Let’s Write
(आओ लिखो):

Compare the bar diagrams given in the book and write a paragraph on the basis of the questions given below.
(पुस्तक में दिये बार-चित्रों की तुलना करें और नीचे दिये प्रश्नों के आधार पर एक पैराग्राफ लिखें।)
Answer:
According to the cenus, Jhabua has the maximum population. In both the censuses, khanduva and khargone have almost the same population. The total population of Dhar, Jhabua and Badwani was.53,44,311 Sidhi has the maximum growth of 3,46,497 in population of S.C. and S.T. The minimum population is of the district Mandla according to the census of 2001.

Let’s do it
(आओ इसे करें):

Visit Many Sangrahalaya / any tribal village / talk to your teacher and collect more information about the different tribes of Madhya Pradesh.
Answer:
Do yourself.

Know More About Word Meanings

Ability (एबिलिटी) – योग्यता; Appease (अपीज़ – शान्त); Ancestor (ऐन्सेस्टर) – पूर्वज; Archeological (आर्किओलॉजिकल) – पुरातत्वीय; Art and Culture (आर्ट एण्ड कल्चर) – कला और संस्कृति; Attic (ऐटिक) – अटारी; Characteristic (कैरेक्टरिस्टिक) – विशिष्टता; Cow – dung (काउ-डंग) – गोबर; Customary (कस्टमरी) – रिवाजी; Decorate (डेकोरेट) – सजाना; Dynasty (डाईनेस्टी – राजवंश; Enquire (एनक्वायर) – पूछना; Glorious (ग्लोरिअस) – यशस्वी, शानदार; Heritage (हेरिटेज – विरासत); Insight (इनसाइट) – अन्तर्दृष्टि, पूरी जानकारी) Memory (मेमरी) – याद, याददाश्त, स्मरण; maximum (मैक्सिमम) – अधिकतम; Migrate (माइग्रेट) – प्रवास;

occasion (ओकेजन) – अवसर, मौका; Ornaments (ऑर्नामेन्ट्स) – आभूषण; Peculiar (पिक्यूलिअर) – अनूठा; Polite (पोलाइट) – शिष्ट, नम्र; Pillar (पिलर) – खम्भा; Recognition (रिकग्निशन) – पहचान, मान्यता; Scatter (स्कैटर) – बिखेरना; Stray (स्ट्रे) – घूमना, भटकना; Society (सोसाइटी) – समाज; Spacious (स्पेशिअस) – विस्तृत; Stone Carved (स्टोन काड) – पत्थर पर उकेरा गया; Symbol (सिम्बल) – प्रतीक; Skill (स्किल) – कौशल; Tattoos (टैटूस) – गोदना; Treasure (ट्रेजर) – खजाना; Vast बास्ट – बहुत बड़ा Venue (वेन्यू) – स्थान; Weapon (वेपन) – हथियार; Attraction (अट्रैक्शन) – आकर्षण।

Know More About Summary, Pronunciation & Translation

1. It was the middle of June, and it had not rained for several weeks. The grass was brown, the leaves of the trees were covered with dust. Some people in their traditional dresses and turbans on their heads were standing and talking. A young boy Sattu pedalled off down the main road of the village, scattering the stray hens and the villagers. Just then a visitor came there.

इट वॉज़ द मिडल ऑफ जून एण्ड इट हैड नॉट रेन्ड फॉर सेवरल वीक्स. द ग्रास वॉज़ ब्राउन, द लीव्स ऑफ द ट्रीज वर कवर्ड विद डस्ट. सम पीपुल इन देअर ट्रेडिशनल ड्रेसेज़ एण्ड टर्बन्स ऑन देर हैड्स वर स्टैण्डिंग एण्ड टॉकिंग. अ यंग बॉय सत्तू पैडल्ड ऑफ डाउन द मेन रोड ऑफ द विलेज, स्कैटरिंग द स्ने हैन्स एण्ड द विलेजर्स. जस्ट दैन अ विज़िटर केम देअर.

अनुवाद:
जून माह का मध्य था और कई सप्ताहों से वर्षा नहीं आयी थी। घास भूरी हो चुकी थी, पेड़ों की पत्तियाँ धूल से ढक गई थीं। कुछ लोग अपनी पारम्परिक वेश-भूषा में सिर पर पगड़ियाँ पहने हुए खड़े होकर बात-चीत कर रहे थे। एक युवक सत्तू गाँव की मुख्य सड़क पर मुर्गियों और लोगों को हटाते हुए साइकिल पर आया। तभी वहाँ एक आगन्तुक आया।

2. Visitor : Hey, will you please help me ?
Sattu : Why not ? But what type of help do you want?
Visitor : Could you please tell me the name of this village as well as your name?
Sattu : The name of my village is Khattali and mine is Sattu.
Visitor : I would like to know more about your society, its lifestyle, its art and culture, its food and festivals.
Sattu : I belong to the Bhil tribe. My uncle is a Guruji in our village school and he can tell you more about our lifestyle, art, festivals etc.
Vistor : That’s fine. I will be delighted to meet him. Let’s go. (Sattu takes him to his uncle.)
Sattu : Meet my uncle, Shri Jam Singh.

विज़िटर – हे, विल यू प्लीज़ हैल्प मी ?
सत्तू – व्हाइ नॉट ? बट व्हॉट टाइप ऑफ हैल्प.डू यू वॉन्ट ?
विजिटर – कुड यू प्लीज टैल मी द नेम ऑफ दिस विलेज ऐज़ वैल ऐज़ योर नेम?
सत्तू – द नेम ऑफ माइ विलेज इज खत्तली एण्ड माइन इज़ सत्तू.
विजिटर – आइ वुड लाइक टु नो मोर अबाउट योर सोसायटी, इट्स लाइफस्टाइल, इट्स आर्ट एण्ड कल्चर, इट्स फूड एण्ड फेस्टि वल्स.
सत्तू – आइ बिलांग टु द भील ट्राइब. माइ अंकल इज़ अ गुरुजी इन अवर विलेज स्कूल एण्ड ही कैन टैल यू मोर अबाउंट अवर लाइफस्टाइल, आर्ट, फेस्टिवल्स ऐटसेटरा.
विजिटर – दैट्स फाइन. आइ विल बी डिलाइटेड टु मीट हिम. लैट्स गो. (सत्तू टेक्स हिम टु हिज़ अंकल.) सत्तू- मीट माई अंकल, श्री जाम सिंह।

अनुवाद:
आगन्तुक – अरे, सुनो! क्या तुम मेरी सहायता करोगे ?
सत्तू – क्यों नहीं ? लेकिन आपको किस प्रकार की सहायता चाहिए ?
आगन्तुक – क्या तुम मुझे अपने गाँव का और अपना नाम। बताओगे ?
सत्तू – मेरे गाँव का नाम खत्तली है और मेरा नाम सत्तू है।
आगन्तुक – मैं तुम्हारे समाज,
उसके रहन – सहन, कला और सभ्यता, भोजन एवं पर्यों के बारे में अधिक जानना चाहूँगा।
सत्तू – मैं भील जनजाति का हूँ।
मेरे चाचा हमारे गांव के विद्यालय में गुरुजी हैं और वे आपको हमारे रहन – सहन, कला, त्यौहारों आदि के बारे में अधिक जानकारी दे सकते हैं।
आगन्तुक – बहुत अच्छा, मुझे उनसे मिलकर बेहद प्रसन्नता होगी। चलो चलते हैं।
(सत्तू उन्हें अपने चाचा के पास ले जाता है।)
सत्तू-मेरे चाचा श्री जाम सिंह से मिलिए।

3. Jam Singh : Hello, Sir!
Visitor : Hello Jam Singh !
Sattu : Kako ! He wants to know about our society, our life style, festivals, art and culture.
Jam Singh : We belong to the Bhil tribe. It is believed that the word ‘Bhil’ is derived from the Dravidian word for bow (Tamil and Kannada bil) which is our characteristic weapon.
Visitor : Do we find Bhils in other parts of India also ?
Jam Singh : Yes, besides Madhya Pradesh we’re also found in Gujrat, Rajasthan and Maharashtra. But the maximum Bhil population is in M.P. mainly in districts – Jhabua, Dhar,Khargone,Barwani, Ratlam etc.
(Jam Singh and the visitor go round the village and stop in front of a house.)

जाम सिंह – हैलो, सर।
विजिटर – हेलो जाम सिंह!
सत्तू – काको! ही वॉन्ट्स टु नो अबाउट अवर सोसायटी, अवर लाइफस्टाइल, फेस्टिवल्स, आर्ट एण्ड कल्चर.
जाम सिंह – वी बिलांग टु भील ट्राइब, इट इज़ बिलीव्ड दैट द वर्ड ‘भील’ इज़ डिराइव्ड फ्रॉम द द्राविडियन वर्ड फॉर बो (तमिल एण्ड कन्नड़ बिल) व्हिच इज़ अवर कैरेक्टरिस्टिक वेपन।
विज़िटर – डु वी फाइण्ड भील्स इन अदर पार्ट्स ऑफ इण्डिया ऑल्सो ?
जाम सिंह – येस, बिसाइड्स मध्य प्रदेश वी आर ऑल्सो फाउण्ड इन गुजरात, राजस्थान एण्ड महाराष्ट्र। बट द मैक्जिमम भील पॉपुलेशन इज इन एम. पी. मेनली इन
डिस्ट्रिक्ट्स – झाबुआ, धार, खरगौन, बरवानी, रतलाम, एटसटरा.
(जाम सिंह एण्ड द विजिटर गो राउण्ड द विलेज एण्ड स्टॉप इन फ्रन्ट ऑफ अ हाउस.)

अनुवाद:
जाम सिंह – नमस्ते, श्रीमान्।
आगन्तुक – नमस्ते, जाम सिंह!
सत्तू – काको! यह हमारे समाज,
हमारे रहन – सहन, त्यौहारों, कला और सभ्यता के बारे में जानना चाहते हैं।
जाम सिंह – हम भील जनजाति के हैं। ऐसा माना जाता है कि ‘भील’ शब्द की उत्पत्ति कमान के लिए द्रविड़ शब्द ‘बो’ (तमिल और कन्नड़ में बिल) से हुई है जो हमारा विशिष्ट शस्त्र है।
आगन्तुक – क्या भील जनजाति भारत के अन्य भागों में भी पाई जाती है।
जाम सिंह – हाँ, मध्य प्रदेश के अतिरिक्त हमारी जाति गुजरात, राजस्थान, और महाराष्ट्र में भी पाई जाती है। लेकिन सबसे अधिक भीलों की जनसंख्या मध्य प्रदेश में, मुख्यतया झाबुआ, धार, खरगौन, बरवानी, रतलाम आदि जिलों में है।
(जाम सिंह और आगन्तुक गाँव का चक्कर लगाते हैं और एक घर के आगे रुक जाते हैं।)

4. Visitor : What a beautiful house ! Tell me something about your houses.
Jam Singh : We love forests and therefore settle near forests. We get several types of forest products, wood and bamboo to build our houses. Our houses are mainly made up of wood, bamboo and with tiled roofs. The bamboo walls are plastered with mud and cowdung. The walls are decorated with Pithora painting. Some, who are good at wood carving carve designs on the pillars and the doors of their houses. There is always a cattle shed adjoining a house. Some people construct pucca and semi-pucca houses also.

विजिटर – व्हॉट अ ब्यूटीफुल हाउस! टैल मी समथिंग अबाउट योर हाउसिस.
जाम सिंह – वी लव फॉरेस्ट्स एण्ड देअरफोर सैटल नियर फॉरेस्ट्स. वी गैट सेवरल टाइप्स ऑफ फॉरेस्ट प्रोडक्ट्स, वुड एण्ड बैम्बू टू विल्ड अवर हाउज़ेज, अवर हाउजेज आर मेनली मेडअप ऑफ वुड, बैम्बू, एण्ड विद टाइल्ड रूफ्स. द बैम्बू वॉल्स आर प्लास्टर्ड विद मड एण्ड काउडंग. द वॉल्स आर डेकोरेटिड विद पिथौरा पेन्टिंग. सम हू आर गुड ऐट वुड कार्विंग कार्व डिजाइन्स ऑन द पिलसर्स एण्ड द डोर्स ऑफ देअर हाउज़ेज. देअर इज़ ऑल्वेज अ कैटल शेड ऐडजॉइनिंग अ हाउस. सम। पीपुल कन्सट्रक्ट पक्का एण्ड सेमी-पक्का हाउज़ेज ऑल्सो..

अनुवाद:
आगन्तुक – कितना सुन्दर घर है ? अपने घरों के बारे में। हमें बताइए।
जाम सिंह – हमें जंगल प्रिय लगते हैं इसलिए हम जंगलों के निकट बसते हैं। हमें अपने मकानों को बनाने के लिए कई प्रकार के वनोत्पाद, लकड़ी और बाँस मिल जाते हैं। हमारे घर मुख्यतया लकड़ी, बाँस और खपरैल की छत के बने होते हैं। बाँस की दीवारों पर मिट्टी और गोबर से पलस्तर किया जाता है। दीवारों को पिथौरा चित्रकला से सजाया जाता है। कुछ लोग जो लकड़ी पर नक्काशी करने में निपुण हैं, वे अपने घरों के दरवाजों, और खम्भों पर आकर्षक नक्काशी करते हैं। घर के बगल में सदैव एक पशुओं का बाड़ा होता है। कुछ लोग पक्के या आधे पक्के – कच्चे मकान भी बनाते हैं।

5. Visitor : Will you please tell me which other tribal people live in Madhya Pradesh ?
Jam Singh : Other tribes which live in Madhya Pradesh are Gonds, Korkus, Baigas, Bhariyas etc.
Visitor : I’ve heard about Gudani, Bundani and Cheenha ? What are they?
Jam Singh : These are art forms of Korkus and Gonds. Korkus decorate their doors by “Gudani” and their walls by “Bundani” and “Cheenha” is a colourful wall – painting of the Gonds.
Visitor : Now-a-days these art forms are getting recognition at the international level also. I think Pema Fatya and Ram Singh Urveti also belong to your society.
Jam Singh : Pema Fatya is a Bhil artist but Ram Singh Urveti is a Gond artist.

विज़िटर – विल यू प्लीज टैल मी व्हिच अदर ट्राइबल पीपुल लिव इन मध्य प्रदेश ?
जाम सिंह – अदर ट्राइब्स व्हिच लिव इन मध्य प्रदेश आर गोंड्स, कोकुस, बैगास, भेरियास ऐटसटरा.
विजिटर – आइहैव हर्ड्स अबाउट गुदानी, बुन्दानी, एण्ड चीन्हा ? व्हॉट आर दे ?
जाम सिंह – दीज़ आर आर्ट फर्स ऑफ कोर्कुस एण्ड गोन्ड्स. कोर्कुस डेकोरेट, देअर डोर्स बाइ ‘गुदानी’ एण्ड देअर वॉल्स बाइ ‘बुन्दानी’ एण्ड ‘चीन्हा’ इज़ अ कलरफुल वाल-पेंटिंग ऑफ द गोंड्स.
विजिटर – नाउ – अ – डेज़ दीज़ आर्ट फॉर्स आर गैटिंग रिकाग्निशन ऐट द इन्टरनेशनल लेवल ऑल्सो. आइ थिंक पेमा फात्या एण्ड राम सिंह उर्वेती ऑल्सो बिलांग टु योर सोसायटी.
जाम सिंह – पेमा फात्या इज़ अ भील आर्टिस्ट बट रामसिंह उर्वेती इज़ अ गोंड आर्टिस्ट।

अनुवाद:
आगन्तुक – क्या तुम मुझे मध्य प्रदेश में रहने वाले अन्य . जनजातीय लोगों के बारे में बताओगे ?
जाम सिंह – अन्य जनजातियाँ जो मध्य प्रदेश में रहती हैं गोंड, कोओ, बैगा, भारिया आदि हैं।
आगन्तुक – मैंने गुदानी, बुन्दानी और चीन्हा के बारे में सुना है। ये क्या हैं ?
जाम सिंह – ये कोर्कुस और गोंड जाति के कला के प्रकार हैं। कोर्कुस अपने दरवाजों को ‘गुन्दानी’ से और दीवारों को ‘बुन्दानी’ से सजाते हैं और ‘चीन्हा’ गोंड जाति की एक रंग-बिरंगी भित्ति चित्रकला है।
आगन्तुक – आजकल ये चित्रकलाएँ अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान बना रही हैं। मेरा विचार है कि पेमा फात्या, राम सिंह उर्वेती भी आपके समाज से सम्बन्धित हैं।
जाम सिंह – पेमा फात्या एक भील कलाकार है लेकिन रामसिंह उर्वेती एक गोंड कलाकार है।

6. Visitor : Somewhere in a magazine I came across a word “Gatla”. What is it?
Jam Singh : Actually it is a memory pillar which is stone – carved and oil – painted. It is erected by the Bhils in the memory of a family member who has met with an unnatural death.
Visitor : Tell me something about your dresses.
Jam Singh : Oh ! Yes, the men wear dhoti, bandee and coloured turban and the females wear colorful ghaghara with polka, kanchali etc.
Visitor : I’ve heard that you people are very fond of ornaments ?
Jam Singh : Yes, we are very fond of ornaments.
Both men and women wear ear – rings and finger rings. Other ornaments are hansli, har, jhumka, nose pin etc.

विजिटर – समव्हेअर इन अ मैग्जीन. आइ.केम अक्रॉस अ वर्ड ‘गतला’; व्हॉट इज़ इट?
जाम सिंह – एक्चुअली इट इज़ अ मेमोरी पिलर व्हिच इज़ स्टोन-कार्ड एण्ड ऑइल पेन्टिड. इट इज़ इरेक्टिड बाइ द भील्स इन द मेमोरी ऑफ फैमिली मेम्बर हू हैज़ मैट विद ऐन अननैचुरल डैथ.
विजिटर – टैल मी समथिंग अबाउट योर ड्रैसेज़.
जाम सिंह – ओह! यस, द मैन वियर धोती, बन्डी एण्ड कलर्ड टर्बन एण्ड द फीमेल्स वियर कलरफुल घाघरा विद पोलका, काँचली ऐटसेटरा.
विज़िटर – आइ हैव हर्ड दैट यू पीपुल आर वैरी फॉण्ड ऑफ ऑनर्नामेंट्स ?
जाम सिंह – यस, वी आर वैरी फॉण्ड ऑफ ऑर्नामेंट्स. बोथ मैन एण्ड वुमेन वियर ईअर-रिंग्स एण्ड
फिगर – रिंग्स. अदर ऑर्नामेंट्स आर हँसली, हार, झुमका, नोज़-पिन ऐटसेटरा.

अनुवाद:
आगन्तुक – मैंने एक पत्रिका में कहीं ‘गतला’ शब्द के बारे में पढ़ा था। यह क्या है ?
जाम सिंह – वास्तव में, यह एक स्मृति स्तम्भ है जिस पर पत्थर की नक्काशी होती है और तैल रंगों से रंगा होता है। यह भीलों द्वारा अपने परिवार के सदस्य की स्मृति में बनवाया जाता है जिसकी मृत्यु अप्राकृतिक तरीके से हो गई हो।
आगन्तुक – अपने कपड़ों (पहनावे) के बारे में मुझे कुछ बताइए।
जाम सिंह – हाँ अवश्य! पुरुष धोती, बन्डी और रंगीन पगड़ी पहनते हैं और स्त्रियाँ रंग-बिरंगे घाघरे, पोलका और काँछली के साथ पहनती हैं।
आगन्तुक – मैंने सुना है कि आप लोग आभूषणों के बहुत शौकीन होते हैं।
जाम सिंह – हाँ, हमें आभूषणों का बहुत शौक है। पुरुष और स्त्री दोनों ही कानों में बाली और अंगूठियाँ पहनते हैं। अन्य आभूषण हंसली, हार, झुमका, नथ आदि हैं।

7. Visitor : It seems that tattos are quite common in your society.
Jam Singh : Yes, it is quite customary among-st us. We call it “Godana.”
Visitor : I’ll be pleased to know more about your fairs and festivals.
Jam Singh : We celebrate ‘Divasa’, ‘Diwali’, ‘Navai’ (a festival when people start consuming corn and other agricultural products, vegetables etc. after offering them to God).
Visitor : I’ve heard a lot about the “Bhagoria Haat”. What’s that?
Jam Singh : The weekly market a week before Holi, is celebrated as Bhagoria. We dance, apply gulal on the face of our relatives and friends and offer them sweets and snacks, ice-candies etc. The children enjoy a ride on the swings.

विजिटर – इट सीम्स दैट टैटूज़ आर क्वाइट कॉमन इन योर सोसायटी.
जाम सिंह – यस, इट इज़ क्वाइट कस्टमरी अमंग्स्ट अस. वी काल इट ‘गोदना.
विजिटर – आइ विल बी प्लीज्ड टु नो मोर अबाउट योर फेअर्स एण्ड फेस्टिवल्स.
जाम सिंह – वी सेलिब्रेट ‘दिवस’, ‘दिवाली’ , ‘नवाई’ (अ फेस्टिवल व्हेन पीपुल स्टार्ट कंज्यूमिंग कॉर्न एण्ड अदर एग्रीकल्चरल प्रोडक्ट्स, वेजिटेबल्स ऐटसेटरा आफ्टर ऑफरिंग दैम टु गॉड).
विज़िटर – आइ हैव हर्ड अ लॉट अबाउट द ‘भगोरिया हाट’. व्हॉट इज़ दैट ?
जाम सिंह – द वीकलं मार्केट अ वीक बिफोर होली, इज़ सेलिब्रेटिड ऐज़ भगोरिया. वो डान्स, अप्लाइ गुलाल ऑन द फेस ऑफ अवर रिलेटिव्स एण्ड फ्रेण्ड्स एण्ड ऑफर दैम स्वीट्स एण्ड स्नैक्स, आइस कैन्डीज़ ऐटसेटरा. द चिल्ड्रन इन्जॉय अ राइड ऑन द स्विंग्स.

अनुवाद:
आगन्तुक – ऐसा प्रतीत होता है कि टैटू (गोदना) आपके समाज में बहुत प्रचलित हैं।
जाम सिंह – हाँ, इसका हमारे बीच में आम रिवाज है। हम इसे गोदना कहते हैं।
आगन्तुक – मुझे आपके मेलों और त्यौहारों के बारे में जानकर प्रसन्नता होगी।
जामसिंह – हम ‘दिवस’, ‘दीवाली’, नवाई (एक त्यौहार जब लोग मक्का और अन्य कृषि उत्पाद, सब्जियाँ आदि देवता को भेंट करने के बाद खाना शुरू कर देते हैं) मनाते हैं।
आगन्तुक – मैंने भगोरिया हाट’ के बारे में काफी सुना है। वह क्या है ?
जाम सिंह – होली से एक सप्ताह पहले के साप्ताहिक बाजार को भगोरिया हाट के रूप में मनाते हैं। हम नाचते हैं, दोस्तों व रिश्तेदारों के चेहरों पर गुलाल लगाते हैं और उन्हें मिठाइयाँ, नमकीन, आइस केंडी आदि भेंट करते हैं। बच्चे झूले पर झूलने का आनन्द उठाते हैं।

8. Visitor : Teejan Bai is a famous tribal singer of Pandvani music. Which dance forms are popular among Bhils?
Jam Singh : “Solo” is a famous dance of Bhils. Other dance forms, which are popular among the Bhils, are Lahari, Pali, Dandavadi, Ghodo, Dang Solo and Chalavadi.

विज़िटर – तीजन बई इज़ अ फेमस ट्राइबल सिंगर ऑफ पंडवानी म्यूजिक. व्हिा डान्स फॉर्मस आर पॉपूलर अमंग भील्स ?
जाम सिंह – ‘सोलो’ इज अ फेमस डॉन्स ऑफ भील्स. अदर डान्स फॉर्मस, व्हिच आ. रॉपूलर अमंग द भील्स, आर लहरी, पाली, डण्डावाड़ी, घोडो ग सोलो एण्ड चालावाड़ी.

अनुवाद:
आगन्तुक – तीजन बाई पंडवानी संगीत की एक प्रसिद्ध आदिवासी गायिका हैं। भीलों में कौन – सा नृत्य लोकप्रिय है ?
जाम सिंह – ‘सोलो’ भीलों का प्रसिद्ध नृत्य है। अन्य नृत्य के प्रकार जो भीलों में प्रचलित हैं, लहरी, पाली, डण्डावाड़ी, घोड़ों, ढंग सोलो और चालावाड़ी हैं।

9. Visitor : Rani Durgawati was a famous ruler of the Gond dynasty. The palaces and different folklores related to the rulers of the dynasty throw some light on their administrative ability, bravery and mature leadership.
Jam Singh : Yes, the tribals of M.P. are known not only for their glorious cultural heritage and their colorful life style but also for their administrative system within their societies. Now I have to go because my nephew who had gone to exhibit his paintings in U.K., is about to come.
Visitor : Thank you, Jam Singh.
Jam Singh : You’re welcome Sir.

विजिटर – रानी दुर्गावती वॉज़ अ फेमस रूलर ऑफ द गोण्ड डाइनेस्टी. द पैलेसेज एण्ड डिफरेन्ट फोकलोर्स रिलेटेड टु द रूलर्स ऑफ द डाइनेस्टी थ्रो सम लाइट ऑन देअर एडमिनिस्ट्रेटिव एबिलिटी, ब्रेवरी, एण्ड मेच्योर लीडरशिप.
जाम सिंह – येस, द ट्राइबल्स ऑफ एम.पी. आर नोन नॉट ऑनली फॉर देअर ग्लोरिअस कल्चरल हैरीटेज एण्ड देअर कलरफुल लाइफ स्टाइल बट ऑल्सो फार देअर एडमिनिस्ट्रेटिव सिस्टम विदिन देअर सोसाइटीज. नाउ आइ हैव टु गो बिकॉज़ माइ नेफ्यू हू हैड गॉन टु एक्जीबिट हिज़ पेंटिंग्स इन यू. के. इज़ अबाउट टु कम.
विजिटर – बैंक यू, जाम सिंह.
जाम सिंह – यू आर वेल्कम सर.

अनुवाद:
आगन्तुक – रानी दुर्गावती गोंड राजवंश की एक प्रसिद्ध शासक थीं। गोण्ड वंश के शासकों से सम्बन्धित महल और विभिन्न लोक-कथाएँ उनकी प्रशासनिक योग्यता, वीरता और परिपक्व नेतृत्व पर प्रकाश डालती हैं।
जाम सिंह – हाँ, मध्य प्रदेश की जनजातियाँ न केवल अपने यशस्वी, सांस्कृतिक विरासत और सजीव, शानदार रहन-सहन के लिए जानी जाती हैं बल्कि अपने सामाजिक प्रशासनिक व्यवस्था के लिए भी जानी जाती हैं। अब मुझे जाना है क्योंकि मेरा भतीजा
जो ब्रिटेन में अपनी चित्र – कलाकृतियों को प्रदर्शित करने गया था, आने वाला है।
आगन्तुक – धन्यवाद, जाम सिंह। जाम सिंह-आपका स्वागत है, श्रीमान्।’

We wish the knowledge shared regarding MP Board Solutions for Class 8 General English Solutions Chapter 12 Know More About Questions and Answers has been helpful to you. If you need any further help feel free to ask us and we will get back to you with the possible solution. Bookmark our site to avail the latest updates on different state boards solutions in split seconds.

Leave a Reply