MP Board Class 9th Hindi Vasanti Solutions Chapter 1 साखियाँ (कबीरदास)

साखियाँ अभ्यास-प्रश्न

साखियाँ लघु-उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
साधु का स्वभाव किसके समान होना चाहिए और क्यों?
उत्तर
साधु का स्वभाव सूप के समान होना चाहिए, क्योंकि वह तत्त्व की बातों को ग्रहण करता है और व्यर्थ की बातों को छोड़ देता है।

प्रश्न 2.
मनुष्य की तुलना किस-किस से की गई है?
उत्तर
मनुष्य की तुलना काल के चबैना, पानी के बुलबुले, भोर के तारे, अनमोल हीरे और कच्चे घड़े से की गई है।

प्रश्न 3.
नदी और वृक्ष से क्या शिक्षा मिलती है?
उत्तर
नदी और वृक्ष से परमार्थी होने की शिक्षा मिलती है।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
आज का काम कल के लिए क्यों नहीं छोड़ना चाहिए?
उत्तर
आज का काम कल पर इसलिए नहीं छोड़ना चाहिए कि न जाने कल फिर समय मिले न मिले।

प्रश्न 5.
काँच के घड़े की तुलना शरीर से क्यों की गई है?
उत्तर
काँच के घड़े की तुलना शरीर से इसलिए की गई है कि दोनों ही नश्वर हैं। दोनों का अनिश्चित जीवन है।

साखियाँ दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
समय का महत्त्व न समझने के क्या दुष्परिणाम होते हैं?
उत्तर
समय का महत्त्व न समझने के दुष्परिणाम ये होते हैं कि हीरे के समान अमूल्य जीवन व्यर्थ में ही बीत जाता है। फलस्वरूप अच्छे कर्म न करने से अंत में बहुत पछताना पड़ता है। लेकिन इस प्रकार पश्चाताप करने से कुछ भी हाथ में नहीं आता है।

प्रश्न 2.
कुम्हार और मिट्टी के माध्यम से कवि क्या कहना चाहता है?
उत्तर
कुम्हार और मिट्टी के माध्यम से कवि यह कहना चाहता है कि जीवन नश्वर है। उसकी नश्वरता अनिश्चित होने के साथ ही अवश्यसंभावी है। इसलिए हमें अपनी शक्ति-बल का घमंड नहीं करके ईश्वर की शक्ति को याद करके उसके प्रति ध्यान लगाना चाहिए।

प्रश्न 3.
मनुष्य को कब पछताना पड़ता है?
उत्तर
मनुष्य को समय का सदुपयोग करना चाहिए। समय के अनुसार कार्य करने से किसी प्रकार का न तो दुख उठाना पड़ता है और पश्चाताप ही करना पड़ता है। इसके विपरीत समय का दुरुपयोग करने से बहुत बड़ी हानि उठानी पड़ती है। उस समय बहुत पछताना पड़ता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
‘हीरा जनम अमोल वा कौड़ी बदले जाय’ इस पंक्ति का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
‘हीरा जनम अमोल था, कौड़ी बदले जाय।
उपर्युक्त पंक्ति का आशय यह है कि मनुष्य का जन्म हीरा की तरह अनमोल होता है। उसको सार्थक न बनाकर उसे यों ही रात-दिन सोकर और खा-पीकर बीता देने से उसकी सार्थकता समाप्त हो जाती है। फलस्वरूप वह कौड़ी के समान मूल्यहीन रह जाता है।

प्रश्न 5.
नीचे दी गई पंक्तियों की संदर्भ सहित व्याख्या लिखिएक.
(क) वृक्ष कबहूँ नहिं फल भखें, नदी न संचै नीर।
परमारथ के कारने, साधुन धरा शरीर ॥
(ख) यह तन काँचा कुम्भ है, लिये फिरै था साथ।
टपका लागा फूटिया, कछु नहिं आया हाथ।।
उत्तर
(क) कबीरदास का कहना है कि जिस प्रकार वृक्ष अपने फल को स्वयं न खाकर दूसरों को ही खाने के लिए प्रदान करता है। नदी अपने जल का संग्रह करके अपने पास नहीं रखती है, अपितु उसे दूसरों को पीने के लिए प्रदान करती है। ठीक इसी प्रकार से सज्जन अपने लिए ही जीवित नहीं रहते हैं, अपित ये दूसरों की भलाई के लिए ही जीवित रहते हैं।

(ख) कबीरदास का कहना है कि यह शरीर कच्चे घड़े के समान है, जिसे अपनी अज्ञानता के कारण मनुष्य उस पर इतराते हुए इधर-उधर घूमता-फिरता है। उस पर जब मृत्यु (काल) का ठोकर लगता है, तब वह फूट (समाप्त हो जाता है। फलस्वरूप कुछ भी हाथ नहीं आता है, अर्थात् सारा जीवन व्यर्थ हो जाता है।

साखियाँ भाषा अध्ययन/काव्य सौंदर्य

प्रश्न 1.
साघु ऐसा चाहिए जैसा………….उड़ाय। कबीर की इन पंक्तियों में अनुप्रास अलंकार का प्रयोग कहाँ हुआ है? छाँटकर लिखिए।
उत्तर
‘सूप सुभाय’ और ‘सार सार’ में अनुप्रास अलंकार है।

प्रश्न 2.
प्रस्तुत पाठ में सुभाय, परमारव, मानुष, परभात जैसे अनेक तद्भव शब्दों का प्रयोग हुआ है पाठ में से पाँच तद्भव शब्द छॉटिए?
उत्तर
पाँच तद्भव शब्द-भूखा, साधुन, दिविस, जनम और औसर।

प्रश्न 3.
पाठ में सुख-दुख, रात-दिन, आज-कल जैसे विलोम शब्दों का प्रयोग किया गया है। इसी तरह के अन्य विलोम शब्दों को लिखिए?
उत्तर
विलोम शब्द-सार-थोथा, हीरा-कौड़ी, मिट्टी-कुम्हार।

साखियाँ योग्यता-विस्तार

प्रश्न 1. कबीर की भक्ति एवं नीति से संबंधित दोहों को संकलित कीजिए तथा अपनी कक्षा में अंत्याक्षरी का आयोजन करें।
प्रश्न 2. भक्तिकाल के कवियों की सूची संकलित करें।
प्रश्न 3. कबीर की वेशभूषा के अनुरूप कबीर का चित्र बनाएँ।
प्रश्न 4. कबीर के चित्र भी हूँढ़े जा सकते हैं।
उत्तर
उपर्युक्त प्रश्नों को छात्र/छात्रा अपने अध्यापक/अध्यापिका की सहायता से हल करें।

साखियाँ परीक्षापयोगी अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्न

लघुउत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
साधू किसका भूखा नहीं होता है और क्यों?
उत्तर
साधू धन का भूखा नहीं होता है। वह तो भाव का भूखा होता है। यह इसलिए कि उसे सांसारिक सुख-सुविधा से विराग होता है।

प्रश्न 2.
परमार्थी किसे कहा गया है?
उत्तर
परमार्थी वृक्ष, नदी और साधु को कहा गया है।

प्रश्न 3.
मनुष्य क्या समझकर (मानकर) फूले नहीं समाता है?
उत्तर
मनुष्य झूठे सुख को सच्चा सुख समझकर (मानकर) फूले नहीं समाता है।

MP Board Solutions

प्रश्न 4.
मनुष्य के क्षणभंगुर जीवन को किसके समान बतलाया गया है?
उत्तर
मनुष्य के क्षणभंगुर जीवन को पानी के बुलबुले और भोर के तारे के समान बतलाया गया है।

प्रश्न 5.
पश्चाताप करने से बचने के लिए क्या करना चाहिए?
उत्तर
पश्चाताप करने से बचने के लिए समय का सदुपयोग करना चाहिए।

साखियाँ दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
साधु के स्वभाव की तुलना सूप के साथ क्यों की गई है?
उत्तर
सूप थोथी (बेकार की) वस्तुओं को उड़ा देता है और सार (तत्त्व) की वस्तुओं को अपने पास रख लेता है। ठीक इसी प्रकार सच्चे साधु का भी स्वभाव होता है। वह भी व्यर्थ की बातों को छोड़ देता और अच्छी बातों को ग्रहण कर लेता है। इस प्रकार साधु का स्वभाव सूप से बिल्कुल मिलता-जुलता है। इसलिए साधु के स्वभाव की तुलना सूप के साथ की गई है।

प्रश्न 2.
‘आज-काल के करत ही, औसर जासी चाल’ का क्या आशय है?
उत्तर
‘आज-काल के करत ही, औसर जासी चाल’ का आशय है-समय का टालमटोल करना। दूसरे शब्दों में यह, मनुष्य जब आज का काम कल पर और कल का काम अगले कल पर छोड़ने लगता है, तो समय उसका इंतजार नहीं करता है। वह तो अपनी ही रफ्तार से आगे बढ़ता जाता है। इस प्रकार समय का सदुपयोग न करने के कारण मनुष्य को बार-बार पछताना पड़ता है। इसलिए आज का काम कल पर और कल का काम अगले कल पर नहीं छोड़ना चाहिए।

प्रश्न 3.
‘इक दिन अइसा होइगा, मैं सैंदूंगी तोहि’ कहकर माटी ने कुम्हार को क्या चेतावनी दी है?
उत्तर
‘इक दिन अइसा होइगा, मैं रूँदूँगी तोहि’ कहकर माटी ने कुम्हार को यह चेतावनी दी है कि समय हमेशा एक समान नहीं रहता है। इसलिए किसी को अपनी ताकत पर नहीं इतराना चाहिए। अपनी ताकत के सामने किसी को कमजोर नहीं समझना चाहिए। समय के बदलते हुए कमजोर-से-कमजोर भी शक्तिशाली को शक्तिविहीन कर देते हैं।

प्रश्न 4.
शरीर को कच्चा घड़ा क्यों कहा गया है?
उत्तर
शरीर को कच्चा घड़ा कहा गया है। यह इसलिए कि दोनों ही लगभग एक समान होते हैं। कच्चा घड़ा कब फूट जाए, कोई ठीक नहीं। इसी प्रकार यह शरीर कब समाप्त हो जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता है। इस प्रकार दोनों ही नश्वर हैं। उनकी नश्वरता अनिश्चित है।

प्रश्न 5.
कबीरदास विरचित साखियों का प्रतिपाय अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर
महात्मा कबीरदास द्वारा विरचित ‘साखियाँ न केवल शिक्षाप्रद हैं, अपितु यथार्थपूर्ण भी हैं। कबीर ने इन साखियों में साधु-संतों अर्थात् सज्जनों के स्वभाव, उनके द्वारा किए जाने वाले परोपकार के साथ-साथ मनुष्य के क्षणभंगुर जीवन का चित्रण किया है। मनुष्य को अपने क्षणिक जीवन से सावधान होकर सद्कर्म करने की प्रेरणा इन साखियों में दी गई है। इस प्रकार इन साखियों में यह भी सीख दी गई है कि मनुष्य को सत्कर्म करना चाहिए, दुष्कर्म नहीं। समय का सदुपयोग करते हुए उसे किसी प्रकार काट नहीं करना चादिशा।

साखियाँ कवि-परिचय

प्रश्न
कबीरदास का संक्षिप्त जीवन-परिचय देते हुए उनका साहित्य में स्थान बतलाइए।
उत्तर
निरक्षर संत कवियों में कबीरदास का नाम सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है। ज्ञान के द्वारा ईश्वर-प्राप्ति का मार्ग बतलाने में कबीरदास अत्यधिक लोकप्रिय हैं। जीवन-परिचय-महात्मा कबीरदास का जन्म संवत् 1455 ई. में वाराणसी की एक विधवा ब्राह्मणी के गर्भ से हुआ था जिसने नवजात शिशु को लोक-लाज के कारण लहरतारा नामक तालाब के किनारे रख दिया। नीरु नामक जुलाहा इस बालक को उठाकर अपने घर लाया। इस बालक का लालन-पालन नीरु-नीमा दम्पत्ति ने किया। कबीरदास का विवाह लोई से हुआ था जिससे कमल और कमाली नामक पुत्र और पुत्री उत्पन्न हुए। कबीरदास को कहीं से कोई शिक्षा नहीं मिली थी। इन्होंने स्वयं कहा था’मसि कागद छूयो नहि, कलम गह्यो नहीं हाथ।’

कबीरदास उस समय के महान् धर्मोपदेशक स्वामी रामानन्द के विचारों से अधिक प्रभावित होकर उन्हें अपना गुरु मानकर उपदेश देने लगे। कुछ लोग इनके गुरु ‘शेख तकी’ को एक मुसलमान संत मानते हैं। जीवन के अंतिम दिनों में ये काशी छोड़कर मगहर चले गए और वहीं इनकी मृत्यु संवत् 1575 में हो गई।

कृतियाँ – कबीरदास ने स्वयं ग्रंथ नहीं लिखा बल्कि उन्होंने मौखिक रूप से जो कुछ भी व्यक्त किया, वे ही उनके शिष्यों के द्वारा ग्रंथ के रूप में तैयार किया गया। कबीर की वाणी का संग्रह बीजक के रूप में प्रकाशित हो चुका है। इसे अलग-अलग रूपों में ‘साखी’, ‘शबद’ और ‘रमैनी’ के रूप में जाना जाता है।

भाषा-शैली – कबीरदास की भाषा में खड़ी बोली, हिन्दी भाषा के साथ, अवधी, पूर्वी (बिहारी), पंजाबी, उर्दू आदि भाषाओं के साथ-साथ देशज शब्दों का भी प्रयोग कुशलतापूर्वक हुआ है। इनकी भाषा को इसी कारण खिचड़ी-मिश्रित भाषा कहा जाता है। कुछ लोगों का यह मानना ठीक भी है कि कबीरदास की भाषा सधुक्कड़ी भाषा है।

साहित्य में स्थान – कबीरदास का हिन्दी भक्ति काव्यधारा के ज्ञानमार्गी काव्यधारा में निश्चयपूर्वक सर्वोपरि स्थान है। हिन्दू-मुस्लिम एकता की विचारधारा के मूल प्रवर्तक कबीरदास ही थे। इन्होंने अपनी विचारधारा के अनुसार ही अपना पंथ चलाया। आपकी रचनाओं का प्रभाव आज भी समाज पर अत्यधिक है, जो राष्ट्रीय स्तर पर प्रेरणा और उत्साह जगाकर आत्म-चिंतन को बढ़ाता है।

MP Board Solutions

साखियाँ कविता का सारांश

महात्मा कबीरदास विरचित साखियाँ उपदेश और यथार्थ हैं। कबीर ने इन साखियों में यह कहना चाहा है कि साधु-संतों का स्वभाव सूप की तरह अच्छी बातों को ग्रहण करने वाला और बेकार बातों को छोड़ देने वाला होना चाहिए। साधु अर्थात् सज्जन भाव के भूखे होते हैं, धन के नहीं। वे तो पेड़ की तरह ही परमार्थ होते हैं। कबीर ने यह चेतावनी दी है कि मनुष्य का जीवन पानी के बुलबुले के समान है, जो भोर के तारों के समान देखते-देखते ही समाप्त हो जाता है। मनुष्य अपने हीरे की तरह बहुमूल्य जीवन को अपनी अज्ञानता के कारण रात-दिन सो-सोकर और खाकर व्यर्थ में बीता देता है। वह आज और कल पर ईश्वर भजन-याद को टाल देता है। अच्छे दिनों में तो उसने अपने गुरु से प्रेम नहीं किया। अब पछताने से क्या लाभ। कुम्हार की मिट्टी उसे चेतावनी देती हुई कहती है कि उसे अपने बल-ताकत पर घमंड नहीं करना चाहिए कि वह हमेशा वैसा ही ताकतवर बना रहेगा। एक दिन ऐसा आएगा कि उसकी ताकत बिल्कुल ही काम नहीं आएगी। उसे समझना चाहिए कि उसका शरीर कच्चे घड़े के समान है। उस पर वह इतराता फिरता है। एक दिन जब उस पर मौत का टपका लगेगा तो वह फूटकर समाप्त हो जाएगा। फिर तो उसे कुछ भी हाथ नहीं लगेगा।

साखियाँ संदर्भ-प्रसंग सहित व्याख्या

पद्यांशों की सप्रसंग व्याख्या, काव्य-सौंदर्य एवं विषय-वस्तु पर आधारित प्रश्नोत्तर

1. साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय।
सार सार को गहि रहे, चोथा देइ उड़ाय॥

शब्दार्थ-सुभाव-स्वभाव । सार-तत्त्व, सार्थक। थोथा-व्यर्थ, बेकार।

प्रसंग-प्रस्तुत दोहा हमारी पाठ्य-पुस्तक ‘वासंती’ हिंदी सामान्य में संकलित तथा महात्मा कबीरदास विरचित ‘साखियाँ’ शीर्षक से है। इसमें कबीरदास ने सज्जनों के स्वभाव को बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि सज्जनों का स्वभाव सूप की तरह होना चाहिए। दूसरे शब्दों में सज्जन का स्वभाव अच्छी-अच्छी बातों को ग्रहण करने वाला और व्यर्थ की बातों को छोड़ देने वाला होना चाहिए। इस प्रकार उनका स्वभाव सूप की तरह होना चाहिए, जो तत्त्व की वस्तुओं को ग्रहण करके व्यर्थ की वस्तुओं को छोड़ देता है।

विशेष-

  1. सज्जनों के स्वभाव का महत्त्वांकन किया गया है।
  2. दोहा छंद है।
  3. भाषा सधुक्कड़ी है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद का काव्य-सौंदर्य लिखिए।
(ii) प्रस्तुत पद के भाव-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर-
(i) प्रस्तुत पद में कवि ने सज्जनों के स्वभाव को बतलाने के लिए सरल शब्दों का प्रयोग किया है। उपदेशात्मक शैली के द्वारा कवि ने अपने कथन को सुस्पष्ट करने के लिए उपमालंकार (सूप की उपमा) का प्रयोग किया है। दोहा छंद में प्रस्तुत यह कथन अधिक सार्थक बन गया है।
(ii) प्रस्तुत पद का भाष-सौंदर्य सज्जनों के स्वभाव को बतलाने में अधिक उपयुक्त दिखाई दे रहा है। सज्जनों की सज्जनता अर्थात् सरलता (सीधापन) कितना गुणग्राही होती है। इसे समझाने के लिए सूप का उदाहरण देना एकदम सटीक और उपयुक्त लग रहा है। इस प्रकार से प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य निश्चय ही आकर्षण और प्रभावशाली है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न
(i) सज्जनों और सूप में क्या समानता होती है?
(ii) सज्जनों के स्वभाव को सूप की तरह कहने से कवि का क्या आशय है?
उत्तर-
(i) सज्जनों और सूप में यह समानता होती है कि दोनों ही अच्छाई को ग्रहण करते हैं और बुराई को छोड़ देते हैं।
(ii) सज्जनों के स्वभाव को सूप की तरह कहने से कवि का आशय है कि हमें अपने स्वभाव को सरल और गुणग्राही ही बनाने का प्रयास करना चाहिए।

2. साधू भुखा भाव का, धन का भूखा नाहिं।
धन का भूखा जो फिरे, सो तो साघू नाहिं।

शब्दार्थ-नाहि-नहीं।। सो-वह।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने सज्जनों की चाह को बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि सज्जन बड़े ही सरल और सीधे होते हैं। यही नहीं, वे किसी प्रकार से लोभी और धन-सुख की तनिक भी इच्छा नहीं रखते हैं। वे केवल सच्चे और अच्छे भावों को ही चाहते हैं। बुरे भावों से नफरत करते हैं। इस प्रकार वे किसी प्रकार के धन और सुख की तनिक भी इच्छा न करके अच्छे भावों को ही महत्त्व देते हैं। यही कारण है कि धन-सुख की इच्छा न रखने वाले सज्जन होते हैं और जो धन-सुख की इच्छा रखते हैं, वे सज्जन नहीं, बल्कि दुर्जन होते हैं।

विशेष-

  1. भाषा सधुक्कड़ी है।
  2. दोहा छंद है।
  3. सज्जनों के सरल और निर्लोभी स्वभाव का उल्लेख है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद का काव्य-सौंदर्य लिखिए।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य लिखिए।
उत्तर
(i) प्रस्तुत पद में सज्जनों के भावों की सादगी सरल और स्पष्ट शब्दों के द्वारा रखने के लिए कवि ने दोहा छंद का उपयोग किया है। सधुक्कड़ी भाषा के द्वारा स्वभावोक्ति अलंकार का प्रयोग आकर्षक रूप में है।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य सज्जनों की भावनाओं को सरसता के साथ प्रस्तुत करने में अधिक उपयुक्त सिद्ध हो रहा है। कवि की भाव-योजना अधिक यथार्थपूर्ण होने के कारण विश्वसनीय है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) सज्जन भाव के भूखे होते हैं। क्यों?
(ii) धन के भूखे कौन होते हैं और क्यों?
उत्तर
(i) सज्जन भाव के भूखे होते हैं। यह इसलिए कि उनका मन सांसारिक वस्तुओं धन, साधन आदि के प्रति न लगकर सरल और सादा जीवन की ओर ही लगा रहता है।
(ii) धन के भूखे दुर्जन होते हैं। यह इसलिए कि उनका सांसारिक सुख को छोड़कर सरल और सादा जीवन के प्रति बिल्कुल लगाव नहीं होता है।

MP Board Solutions

3. वृक्ष कबहें नहि फल भखें, नदी न संचै नीर।
परमारथ के कारने साधुन धरा शरीर॥

शब्दार्व-कबह-कभी। भखें-खाना। संचै-संग्रह। परमारव-परोपकार, दूसरों की भलाई। कारने-कारण के लिए। साधुन-सज्जन। धरा-धारण करते हैं।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने सज्जनों के जीवन के उद्देश्य को बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि जिस प्रकार वृक्ष अपने फल को स्वयं न खाकर दूसरों को ही खाने के लिए प्रदान करता है। नदी अपने जल का संग्रह करके अपने पास नहीं रखती है, अपितु उसे दूसरों को पीने के लिए प्रदान करती है। ठीक इसी प्रकार से सज्जन अपने लिए ही जीवित नहीं रहते हैं, अपित ये दूसरों की भलाई के लिए ही जीवित रहते हैं।

विशेष-

  1. सधुक्कड़ी भाषा है।
  2. दोहा छंद है।
  3. सज्जनों को परोपकारी सिद्ध किया गया है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) उपर्युक्त पद के काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
(ii) उपर्युक्त पद के भाव-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर
(i) उपर्युक्त पद में वृक्ष और नदी की तरह सज्जनों को परोपकारी सिद्ध करने के लिए कवि ने दोहा छंद का प्रयोग किया है। ‘धरा-शरीर’ में अनुप्रास अलंकार रोचक रूप में है। अपने कथन को सधुक्कड़ी भाषा की शब्दावली से कवि ने सचमुच प्रेरक बना दिया है।
(ii) सज्जन परोपकारी होते हैं। उनकी इस अच्छाई को कवि ने वृक्ष और नदी की तरह बतलाने का प्रयास किया है। कवि ने सज्जनों के परोपकारी होने की विशेषता को स्वयं के लिए कुछ भी संग्रह न करने वाले वृक्ष और नदी की ही तरह बतलाया है। कवि का यह दृष्टिकोण अधिक आकर्षक और रोचक ही नहीं अपितु प्रेरक भी है। भाव-योजना का प्रवाहमयता और उपयुक्तता सराहनीय है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न
(i) वृक्ष और नदी की क्या विशेषता होती है?
(ii) वृक्ष और नदी की उपमा देकर कवि ने क्या सिद्ध करना चाहा है?
उत्तर
(i) वृक्ष और नदी की एक समानता होती है कि यह दोनों ही परोपकारी होते हैं। वृक्ष अपने फल को स्वयं न खाकर दूसरों को प्रदान करता है। नदी अपने जल
को स्वयं न पीकर दूसरों को ही प्रदान कर देती है।
(ii) वृक्ष और नदी की उपमा देकर कवि ने यह सिद्ध करना चाहा है कि वृक्ष और नदी की ही तरह सज्जन स्वयं के लिए नहीं, अपितु दूसरों के लिए ही जीवित रहते हैं।

4. झूठे सुख को सुख कहै, मानत है मन मोद।
जगत चबेना काल का, कुछ मुख में कुछ गोद।।

शब्दार्थ-मोद-प्रसन्नता! जगत-संसार।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने सांसारिक सुख को झूठा और क्षणिक सुख बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि मनुष्य अपनी अज्ञानता के कारण सांसारिक सुख को सच्चा सुख मानकर फूले नहीं समाता है। उसे यह बिल्कुल ही ज्ञान नहीं होता है कि यह सांसारिक सुख झूठा और क्षणिक है। इस प्रकार वह अपनी अज्ञानता के कारण यह नहीं समझ पाता है कि यह सारा संसार काल (मृत्यु) का चबैना है, जिसे वह कुछ अपने मुँह में ले लिया और कुछ गोद में (बाद में चबाने अर्थात् खाने के लिए) ले रखा है।

विशेष-

  1. सांसारिक सुख को झठा और क्षणिक कहा गया है।
  2. ‘मन-मोद’ में अनुप्रास अलंकार है।
  3. उपदेशात्मक शैली है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद के काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य लिखिए।
उत्तर
(i) प्रस्तुत पद में सांसारिक सुख को क्षणिक और झूठा बतलाने के लिए कवि ने काव्य-सौंदर्य के अपेक्षित स्वरूपों को रखने का प्रयास किया है। इसके लिए सधुक्कड़ी भाषा की शब्दावली का प्रयोग किया है। उपदेशात्मक शैली, अनुप्रास अलंकार और दोहा छंद को समुचित स्थान देकर कवि ने काव्यात्मक सौंदर्य ला दिया है।
(ii) प्रस्तुत पद में सांसारिक क्षण-भंगुर सुख को झूठा बतलाने के लिए सरल और प्रचलित शब्दावली की योजना भावानुकूल है। मनुष्य की अज्ञानता का बोध कराने के लिए संसार को काल का चबैना कहना कथ्य के तथ्य के अनुसार ही है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्तु से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) संसार की नश्वरता को क्या कहकर दर्शाया गया है?
(ii) झूठे सुख को मनुष्य सच्चा सुख क्यों मानता है?
उत्तर
(i) संसार की नश्वरता को काल का चबैना कहकर दर्शाया गया है।
(ii) झूठे सुख को मनुष्य अपनी अज्ञानता के कारण सच्चा सुख मानता है।

5. पानी केरा बुदबुदा, अस मानुष की जात।
देखत ही छिपि जावगी, ज्यों तारा परभात।।

शब्दार्थ-केरा-के। बुदबुदा-बुलबुला। अस-समान। जात-जाति। छिपि-समाप्त। ज्यों-जैसे, जिस प्रकार । परभात-प्रभात, भोर।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने मनुष्य के जीवन को पानी के बुलबुले के समान ही क्षणभंगुर बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि मनुष्य का जीवन पानी के बुलबुले के समान ही क्षणभंगुर और अनिश्चित है। वह कब तक है और कब तक नहीं, यह कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। ऐसा इसलिए कि वह देखते-देखते वैसे ही समाप्त हो जाता है-जैसे भोर का तारा देखते-देखते छिप जाता है। इसलिए मनुष्य को अपने इस क्षणभंगुर जीवन की सच्चाई को समझकर इतराना-इठलाना नहीं चाहिए।

विशेष-

  1. उपमालंकार (पानी के बुलबुले और भोर के तारे से मनुष्य के जीवन की क्षणभंगुरता की उपमा दी गई है) है।
  2. दोहा छंद है।
  3. शान्त रस है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न
(i) प्रस्तुत पद के काव्य-सौंदर्य को स्पष्ट कीजिए।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य लिखिए।
उत्तर
(i) प्रस्तुत पद में मानव-जीवन की क्षण-भंगुरता को बतलाने के लिए पानी के बुलबुले और भोर के तारे की उपमा सटीक रूप में दी गई है। इसके लिए कवि द्वारा प्रस्तुत उपमालंकार का चमत्कार स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। सधुक्कड़ी भाषा और शान्त रस के संचार से सम्पूर्ण कथन उपदेशात्मक शैली में होकर हदयस्पर्शी बन गया है।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य प्रचलित सधुक्कड़ी शब्दावली से रोचक रूप में है। मानव-जीवन की असारता और उसकी क्षणभंगुरता को पानी के बुलबुले और भोर के तारे के समान बतलाया गया है। ये दोनों ही उपमान भावों को न केवल स्पष्ट करते हैं। अपितु प्रभावशाली और सरस भी बना रहे हैं।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) मनुष्य की जाति कैसी है?
(ii) पानी के बुलबुले और भोर के तारे की उपमा देने का कवि का क्या आशय है?
उत्तर
(i) मनुष्य की जाति पानी के बुलबले और देखते-देखते छिप जाने वाले भोर के तारे के समान क्षणभंगुर है।
(ii) पानी के बुलबुले और भोर के तारे की उपमा देने का कवि का आशय है कि मनुष्य को अपने जीवन की क्षणभंगुरता को नहीं भूलना चाहिए। इसे याद करके उसे अच्छे कामों को ही करके अपने जीवन को बिताना चाहिए।

MP Board Solutions

6. रात गँवाई सोय करि, दिविस गँवायो खाय।
हीरा जनम अमोल था, कौड़ी बदले जाय॥

शब्दार्व-गवाई-बिताई। सोय-सोकर । करि-करके। दिविस-दिन । खाय-खाकर। जनम-जन्म। अमोल-अनमोल, अमूल्य। जाय-बिता दिया। – प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने मनुष्य को व्यर्थ में ही जीवन बिताने के प्रति फटकार लगाई है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि मनुष्य अपनी अज्ञानता के कारण रात को सो-सोकर और दिन को खा-पीकर बिता देता है। इस प्रकार वह हीरे जैसे बहुमूल्य जीवन को कौड़ी के समान व्यर्थ में ही बिता देता है।

विशेष-

  1. भाषा सधुक्कड़ी शब्दों की है।
  2. शैली उपदेशात्मक है।
  3. दोहा छंद है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद का काव्य-सौंदर्य स्पष्ट कीजिए।
(ii) प्रस्तुत पद के भाव-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर-
(i) प्रस्तुत पद का काव्य-सौंदर्य मनुष्य के अज्ञानमय जीवन को प्रभावशाली रूप में रखने में सफल दिखाई देता है। इसकी यह विशेषता सधुक्कड़ी भाषा और. व्यंग्यमय शब्द-शक्ति के फलस्वरूप है। दोहा छंद से कवि ने इसे दर्शाने का सार्थक प्रयास किया है।
(ii) प्रस्तुत पद की भाव-योजना कथ्य के तथ्य के अनुसार है। मनुष्य जीवन को हीरे के समान बहुमूल्य बताकर उसे कौड़ी की तरह निरर्थक बतलाने का कवि का प्रयास बड़ा ही रोचक और भाववर्द्धक है। इस प्रकार इस पद का भाव-सौंदर्य बढ़कर है, ऐसा कहा जा सकता है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न
(i) मनुष्य अपने जीवन को किस तरह बिताता है?
(ii) मनुष्य का जन्म किस तरह का होता है?
उत्तर
(i) मनुष्य अपने जीवन को रात को सोकर और दिन को खा-पीकर बिता देता है।
(ii) मनुष्य का जन्म हीरे की तरह बहुमूल्य होता है।

7. आज कहै कल भजूंगा, काल कहै फिर काल।
आज-कल के करत ‘ही, औसर जासी चाल॥

शबार्थ-भजूंगा-भजन करूँगा। काल-कल । ओसर-अवसर, मौका।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने भगवान के प्रति ध्यान लगाने में टालमटोल करने वाले मनुष्य को सावधान करते हुए कहा है कि

व्याख्या-मनुष्य अपना जीवन सार्थक बनाने की भूल करता ही रहता है। खासतौर से वह ईश्वर के प्रति ध्यान और चिन्तन करने में टालमटोल करता रहता है। वह ईश्वर-भजन करने के विषय में इस प्रकार टालमटोल करता है कि आज कहता है-कल अवश्य ईश्वर का ध्यान करूँगा। कल को वह फिर कल पर टाल देता है। इस प्रकार वह आज-कल का टालमटोल करके अपने सुनहले अवसर को खो देता है।

विशेष-

  1. भाषा सरल और सुबोध है।
  2. शैली उपदेशात्मक है।
  3. ‘कहै कल’ व ‘काल कहै’ में अनुप्रास अलंकार है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद के काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य लिखिए।
उत्तर
(i) आज को कल पर और कल को फिर कल पर टालकर ईश्वर-भजन के प्रति टालमटोल करने में मनुष्य की अज्ञानता को दर्शाया गया है। इसके लिए कवि ने दोहा छंद का चुनाव किया है। फिर उसे अनुप्रास अलंकार से मंडित करने के लिए प्रचलित सरल शब्दों को प्रयुक्त भाषा में अधिक आकर्षक बनाने का सार्थक प्रयास किया है।
(ii) मनुष्य का टालमटोल ईश्वर-भजन के प्रति करने के तथ्य को बड़े ही स्वाभाविक ढंग से प्रस्तुत किया गया है। आज को कल पर और कल को परसों पर टालने के क्रम में नयापन है तो रोचकता भी है। इस तरह धीरे-धीरे सुनहले अवसर को खोते जाने का ढंग सचमुच में निराला है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्त से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) आज को कल पर और कल को फिर कल पर मनुष्य क्यों छोड़ता है?
(ii) मनुष्य जीवन की निरर्थकता क्या है?
उत्तर
(i) मनुष्य आज को कल पर और कल को फिर कल पर इसलिए छोड़ता है कि वह बहुमूल्य और अमूल्य समय का अपनी अज्ञानता के कारण सदुपयोग नहीं करना चाहता है।
(ii) मनुष्य जीवन की निरर्थकता यह है कि वह आज-कल करके ईश्वर-भजन में अपने बहुमूल्य और अमूल्य समय को नहीं लगाता है।

8. अच्छे दिन पाछे गये गुरु से कियो न हेत।
अब पछतावा क्या करे, चिड़िया चुग गई खेत।

शब्दार्थ-पाछे-पीछे। हेत-मेल, प्रेम। चुग गई-खा गई।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने मनुष्य द्वारा अपने सुनहले समय का सदुपयोग न करके पश्चाताप करने के प्रति फटकारा है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि हे मनुष्य! गुरु के प्रति श्रद्धा और भक्ति-भाव करने का जो अच्छा समय था, उसे तुमने यों ही खो दिया। अब तो तुम्हारे चारो ओर से बुरे दिन आ गए हैं। इससे अब गुरु के प्रति श्रद्धा और भक्तिभाव नहीं कर पाने से तुम बार-बार पश्चाताप कर रहे हो। इससे तुम्हें कोई लाभ नहीं होगा। तुम्हारा बार-बार पश्चाताप करना उसी प्रकार व्यर्थ है, जिस प्रकार चिड़ियों के द्वारा खेत चुग जाने पर किसान बार-बार पश्चाताप करता है।

विशेष-

  1. भाषा सरल है।
  2. शैली उपदेशात्मक है।
  3. ‘चिड़िया चुग’ में अनुप्रास अलंकार है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) उपर्युक्त पद के काव्य-सौंदर्य को स्पष्ट कीजिए।
(ii) उपर्युक्त पद के भाव-सौंदर्य को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
(i) उपर्युक्त पद में कवि ने समय के चूक जाने पर पश्चाताप करने वालों के लिए अपना विचार व्यक्त किया है कि इससे कोई लाभ नहीं। इसे कवि ने काव्य के विविध स्वरूपों, जैसे-भाषा, छंद, अलंकार, रस, प्रतीक आदि का प्रयोग किया है। यहाँ पर सधुक्कड़ी भाषा, दोहा, छंद अनुप्रास अलंकार, करुण रस और चिड़िया की प्रतीकात्मकता बड़ी ही सुन्दर और अनूठी है।
(ii) उपर्युक्त पद की भाव-योजना बड़ी सटीक और सुव्यवस्थित है। गुरु से लगाव रखने के सनहले मौके को गँवाकर मनष्य की वही दशा होती है जो चिडियों के द्वारा खेत के चुग जाने पर किसान की होती है। दोनों ही हाथ मलमल कर पछताते हैं। दोनों को कोई लाभ नहीं होता है। इस प्रकार दोनों के भावों और स्थिति में कवि ने जो समानता और एकरूपता लाने का प्रयास किया है, उसमें वह सफल हुआ दिखाई देता है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्तु से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) ‘अच्छे दिन’ से कवि का क्या तात्पर्य है?
(ii) ‘अब पछताए क्या करे, चिड़िया चुग गई खेत’ के स्थान पर कोई दूसरी लोकोक्ति लिखिए।
उत्तर-
(i) अच्छे दिन’ से कवि का तात्पर्य समय का सदुपयोग करने से है।
(ii) ‘अब पछताये क्या करै, जब चिड़िया चुग गई खेत’ के स्थान पर दूसरी लोकोक्ति है-‘का बरखा जब कृषि सुखानी, समय चूकि पुनि का पछतानी॥’

9. माटी कहै कुम्हार को, तू क्या रूँदै मोहि।
इक दिन अइसा होइगा, मैं दूंगी तोहि।

शब्दार्थ-माटी-मिट्टी। रूँदै-मिताना। मोहि-मुझे। अइसा-इस प्रकार, ऐसा ही। होइगा-होगा। तोहि-तुम्हें, तुमकी।

प्रसंग-पूवर्वत् । इसमें कबीरदास ने मनुष्य के क्षणभंगुर और अनिश्चित जीवन को मिट्टी के माध्यम से बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि कुम्हार रोज-रोज मिट्टी को मिट्टी में मिलाकर बरतन बनाने का अपना नित्यकर्म करता है। उसे इस तरह देखकर मिट्टी ने उस पर अपना क्रोध प्रकट करते हुए कहा कि वह उसे क्यों इस तरह बार-बार मिलाकर उसके अस्तित्व (कुछ होने के भाव) को समाप्त कर रहा है। इस तरह करके वह अपनी होने वाली इस प्रकार की दशा को क्यों भूल रहा है। उसे तो यह कान खोलकर सुन लेना चाहिए कि एक समय ऐसा भी आएगा, जब वह भी उसे इसी प्रकार मिट्टी में मिलाकर उसके अस्तित्व (कुछ होने के अहंकार) को मिट्टी में मिलाकर रख देगी।

विशेष-

  1. सधुक्कड़ी भाषा है।
  2. ‘कहे कुम्हार’ में अनुप्रास अलंकार है।
  3. माटी (मिट्टी) को मनुष्य के रूप में चित्रित किया गया है। इसलिए इसमें मानवीयकरण अलंकार है।
  4. शान्त रस का प्रवाह है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद के काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
(ii) प्रस्तुत पद के भाव-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर-
(i) प्रस्तुत पद का काव्य-सौंदर्य, भाव, भाषा, रस, छंद, अलंकार और प्रतीक-दृष्टान्त की दृष्टि से प्रभावशाली बन गया है। मिट्टी का कुम्हार के प्रति फटकार को कवि ने दोहा छंद, अनुप्रास अलंकार और सधुक्कड़ी शब्द के द्वारा व्यक्त करके अपने कथन को यथार्थ बना दिया है।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य सरल और प्रचलित सधुक्कड़ी शब्दावली के फलस्वरूप हृदयस्पर्शी बन गया है। मिट्टी की मनुष्य की शक्ति से कहीं अधिक बढ़कर बतलाने का प्रयास. वास्तव में बड़ा ही अद्भुत और सराहनीय है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्तु से संबंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) मिट्टी ने मनुष्य को क्या चेतावनी देकर फटकार लगाई है?
(ii) मिट्टी और मनुष्य में क्या अंतर बतलाया गया है?
उत्तर
(i) मिट्टी ने मनुष्य को यह चेतावनी दी है कि उसे अपनी शक्ति-बल का घमंड नहीं करना चाहिए। उसे यह भूलना नहीं चाहिए कि वह भी एक दिन मिट्टी में मिलकर समाप्त हो जाएगा।
(ii) मिट्टी और मनुष्य में यह अंतर बतलाया गया है कि मिट्टी को जीवन की नश्वरता का ज्ञान है, जबकि मनुष्य को नहीं।

MP Board Solutions

10. यह तन काँचा कुम्भ है, लिये फिरै था साथ।
टपका लागा फूटिया, कछु नहिं आया हाय।।

शब्दार्थ-तन-शरीर। काँचा-कच्चा। कुम्भ-घड़ा। टपका-ठोकर। लागा-लग गया। फुटिया-फूट गया। कछु-कुछ।।

प्रसंग-पूर्ववत् । इसमें कबीरदास ने शरीर की अनिश्चय क्षणभंगुरता को बतलाने का प्रयास किया है।

व्याख्या-कबीरदास का कहना है कि यह शरीर कच्चे घड़े के समान है, जिसे अपनी अज्ञानता के कारण मनुष्य उस पर इतराते हुए इधर-उधर घूमता-फिरता है। उस पर जब मृत्यु (काल) का ठोकर लगता है, तब वह फूट (समाप्त हो जाता है। फलस्वरूप कुछ भी हाथ नहीं आता है, अर्थात् सारा जीवन व्यर्थ हो जाता है।

विशेष-

  1. सधुक्कड़ी भाषा है।
  2. शरीर को कच्चे घड़े के रूप में व्यक्त करने से रूपक अलंकार है। ‘काँचा कम्भ’ और ‘फिरैथा साथ’ में अनुप्रास अलंकार है।

1. पद पर आधारित काव्य-सौंदर्य संबंधी प्रश्नोत्तर

प्रश्न-
(i) प्रस्तुत पद के काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
(ii) प्रस्तुत पद के भाव-सौंदर्य को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
(i) प्रस्तुत पद, भाव, भाषा, शैली-विधान, रस, छंद, अलंकार, प्रतीक और बिम्ब-योजना से अलंकृत-चमत्कृत है। शरीर को कच्चे घड़े के रूप में रूपायित करके कवि ने उसकी स्वाभाविक विशेषताओं को काव्यात्मक ढंग से आकर्षक रूप दिया है।
(ii) प्रस्तुत पद का भाव-सौंदर्य सरल शब्दों से पुष्ट है। भावों की प्रवाहमयता और क्रमबद्धता से कथ्य का तथ्य सुस्पष्ट होने से यह अंश अधिक रोचक हो गया है।

2. पद पर आधारित विषय-वस्तु से संबंधित प्रश्नोतर

प्रश्न-
(i) तन और काँचा कुम्भ में क्या समानता है?
(ii) ‘कुछ न हाव आना’ एक मुहावरा है, इसका मुख्य भाव क्या है?
उत्तर
(i) तन और काँचा कुंभ में कई समानताएँ हैं

  1. दोनों कच्चे अर्थात् कम अनुभवी होते हैं।
  2. दोनों कोमल और सुन्दर होते हैं।
  3. दोनों ही अस्थाई और नश्वर होते हैं।
  4. दोनों चलते-फिरते अचानक समाप्त हो जाते हैं।

(ii) ‘कुछ न हाथ आना’ मुहावरे का मुख्य भाव है-सब कुछ खो देना।

MP Board Class 9th Hindi Solutions

Leave a Reply